Ham-Zabaan-e-Tarjumaan-e-Mustafa Hazrat Umar Naat Lyrics

Ham-Zabaan-e-Tarjumaan-e-Mustafa Hazrat Umar Naat Lyrics

 

 

हम-ज़बान-ए-तर्जुमान-ए-मुस्तफ़ा हज़रत ‘उमर
जल्वा-ए-नूरुल-हुदा का आईना हज़रत ‘उमर

बा’द मेरे गर नबी होता कोई तो वो ‘उमर
ये बताया है नबी ने मर्तबा हज़रत ‘उमर

हम-ज़बान-ए-तर्जुमान-ए-मुस्तफ़ा हज़रत ‘उमर
जल्वा-ए-नूरुल-हुदा का आईना हज़रत ‘उमर

हक़ को इन’आमात और बातिल का सर तन से जुदा
इस तरह करते थे अक्सर फ़ैसला हज़रत ‘उमर

हम-ज़बान-ए-तर्जुमान-ए-मुस्तफ़ा हज़रत ‘उमर
जल्वा-ए-नूरुल-हुदा का आईना हज़रत ‘उमर

बिंत-ए-ज़हरा को दिया हज़रत ‘उमर के ‘अक़्द में
जानते थे हज़रत-ए-हैदर, हैं क्या हज़रत ‘उमर

हम-ज़बान-ए-तर्जुमान-ए-मुस्तफ़ा हज़रत ‘उमर
जल्वा-ए-नूरुल-हुदा का आईना हज़रत ‘उमर

रोज़ भूकों और परेशाँ की ख़बर-गीरी करें
रात को भी गश्त करते थे सदा हज़रत ‘उमर

हम-ज़बान-ए-तर्जुमान-ए-मुस्तफ़ा हज़रत ‘उमर
जल्वा-ए-नूरुल-हुदा का आईना हज़रत ‘उमर

लिखा हैबत से ब-नाम-ए-दरिया इक ख़त आप ने
और रुके दरिया को जारी कर दिया हज़रत ‘उमर

हम-ज़बान-ए-तर्जुमान-ए-मुस्तफ़ा हज़रत ‘उमर
जल्वा-ए-नूरुल-हुदा का आईना हज़रत ‘उमर

जिस गली से आप जाते, उस से शैताँ भागता
आप का ऐसा था रो’ब-ओ-दबदबा हज़रत ‘उमर

हम-ज़बान-ए-तर्जुमान-ए-मुस्तफ़ा हज़रत ‘उमर
जल्वा-ए-नूरुल-हुदा का आईना हज़रत ‘उमर

ए अमीरुल-मोमिनीं ! बेख़ुद पे हो नज़र-ए-करम
कर दो बे-कस, बे-सहारा का भला हज़रत ‘उमर

हम-ज़बान-ए-तर्जुमान-ए-मुस्तफ़ा हज़रत ‘उमर
जल्वा-ए-नूरुल-हुदा का आईना हज़रत ‘उमर

शायर:
वसीम बेख़ुद

नात-ख़्वाँ:
जामी रज़ा क़ादरी

 

ham-zabaan-e-tarjumaan-e-mustafa hazrat ‘umar
jalwa-e-noorul-huda ka aaina hazrat ‘umar

baa’d mere gar nabi hota koi to wo ‘umar
ye bataaya hai nabi ne martaba hazrat ‘umar

ham-zabaan-e-tarjumaan-e-mustafa hazrat ‘umar
jalwa-e-noorul-huda ka aaina hazrat ‘umar

haq ko in’aamaat aur baatil ka sar tan se juda
is tarah karte the aksar faisla hazrat ‘umar

ham-zabaan-e-tarjumaan-e-mustafa hazrat ‘umar
jalwa-e-noorul-huda ka aaina hazrat ‘umar

bint-e-zahra ko diya hazrat ‘umar ke ‘aqd me.n
jaante the hazrat-e-haidar, hai.n kya hazrat ‘umar

ham-zabaan-e-tarjumaan-e-mustafa hazrat ‘umar
jalwa-e-noorul-huda ka aaina hazrat ‘umar

roz bhooko.n aur pareshaa.n ki KHabar-giri kare.n
raat ko bhi gasht karte the sada hazrat ‘umar

ham-zabaan-e-tarjumaan-e-mustafa hazrat ‘umar
jalwa-e-noorul-huda ka aaina hazrat ‘umar

likha haibat se ba-naam-e-dariya ik KHat aap ne
aur ruke dariya ko jaari kar diya hazrat ‘umar

ham-zabaan-e-tarjumaan-e-mustafa hazrat ‘umar
jalwa-e-noorul-huda ka aaina hazrat ‘umar

jis gali se aap jaate, us se shaitaa.n bhaagta
aap ka aisa tha ro’b-o-dabdaba hazrat ‘umar

ham-zabaan-e-tarjumaan-e-mustafa hazrat ‘umar
jalwa-e-noorul-huda ka aaina hazrat ‘umar

ai ameerul-mominee.n ! BeKhud pe ho nazr-e-karam
kar do be-kas, be-sahaara ka bhala hazrat ‘umar

ham-zabaan-e-tarjumaan-e-mustafa hazrat ‘umar
jalwa-e-noorul-huda ka aaina hazrat ‘umar

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *