Ham Sunni To Aa’la Hazrat Waale Hain Naat Lyrics

Ham Sunni To Aa’la Hazrat Waale Hain Naat Lyrics

 

शुक्र-ए-ख़ुदा कि रज़वी रंगत वाले हैं
हम सुन्नी तो आ’ला हज़रत वाले हैं

हुब्ब-ए-नबी और हुब्ब-ए-सहाबा में चल कर
‘इश्क़-ए-‘अली भी दिल में चलते हैं रख कर
अहल-ए-बैत की दिल से चाहत वाले हैं
हम सुन्नी तो आ’ला हज़रत वाले हैं

आ’ला हज़रत वाले हैं, आ’ला हज़रत वाले हैं
आ’ला हज़रत वाले हैं, आ’ला हज़रत वाले हैं

जिन को न क़ुरआँ में दिखे आक़ा की शान
जिन को न आता है समझ कंज़-उल-ईमान
वो नज्दी तो क़ौम-ए-ग़लाज़त वाले है
हम सुन्नी तो आ’ला हज़रत वाले हैं

शुक्र-ए-ख़ुदा कि रज़वी रंगत वाले हैं
हम सुन्नी तो आ’ला हज़रत वाले हैं

बस्ती-बस्ती, करिया-करिया का ना’रा
इस ना’रे से गूँज उठा ‘आलम सारा
सुन लो हम तो ताज-ए-शरी’अत वाले हैं
हम सुन्नी तो आ’ला हज़रत वाले हैं

शुक्र-ए-ख़ुदा कि रज़वी रंगत वाले हैं
हम सुन्नी तो आ’ला हज़रत वाले हैं

जिस ने पिलाया ‘इश्क़-ए-रज़ा का जाम हमें
और सिखाया प्यारे रज़ा का नाम हमें
उस मुर्शिद की दिल से उल्फ़त वाले हैं
हम सुन्नी तो आ’ला हज़रत वाले हैं

आ’ला हज़रत वाले हैं, आ’ला हज़रत वाले हैं
आ’ला हज़रत वाले हैं, आ’ला हज़रत वाले हैं

शान से हम तो कहते हर-दम रहते हैं
जो भी रज़ा के नाम से जलते रहते हैं
उन की जलन में वज्ह-ए-कसरत वाले हैं
हम सुन्नी तो आ’ला हज़रत वाले हैं

शुक्र-ए-ख़ुदा कि रज़वी रंगत वाले हैं
हम सुन्नी तो आ’ला हज़रत वाले हैं

पीर मिला ‘अत्तार हमें जग में आ’ला
रज़वी, ज़ियाई, क़ादरी जिस ने कर डाला
बेख़ुद ! हम तो ऐसी क़िस्मत वाले हैं
हम सुन्नी तो आ’ला हज़रत वाले हैं

शुक्र-ए-ख़ुदा कि रज़वी रंगत वाले हैं
हम सुन्नी तो आ’ला हज़रत वाले हैं

आ’ला हज़रत वाले हैं, आ’ला हज़रत वाले हैं
आ’ला हज़रत वाले हैं, आ’ला हज़रत वाले हैं

शायर:
वसीम बेख़ुद

ना’त-ख़्वाँ:
क़ुरैशी ब्रदर्स

 

shukr-e-KHuda ki razvi rangat waale hai.n
ham sunni to aa’la hazrat waale hai.n

hubb-e-nabi aur hubb-e-sahaaba me.n chal kar
‘ishq-e-‘ali bhi dil me.n chalte hai.n rakh kar
ahl-e-bait ki dil se chaahat waale hai.n
ham sunni to aa’la hazrat waale hai.n

aa’la hazrat waale hai.n, aa’la hazrat waale hai.n
aa’la hazrat waale hai.n, aa’la hazrat waale hai.n

jin ko na qur.aa.n me.n dikhe aaqa ki shaan
jin ko na aata hai samajh kanz-ul-imaan
wo najdi to qaum-e-galaazat waale hai.n
ham sunni to aa’la hazrat waale hai.n

shukr-e-KHuda ki razvi rangat waale hai.n
ham sunni to aa’la hazrat waale hai.n

basti-basti, kariya-kariya ka naa’ra
is naa’re se goonj uTha ‘aalam saara
sun lo ham to taaj-e-sharee’at waale hai.n
ham sunni to aa’la hazrat waale hai.n

shukr-e-KHuda ki razvi rangat waale hai.n
ham sunni to aa’la hazrat waale hai.n

jis ne pilaaya ‘ishq-e-raza ka jaam hame.n
aur iskhaaya pyaare raza ka naam hame.n
us murshid ki dil se ulfat waale hai.n
ham sunni to aa’la hazrat waale hai.n

aa’la hazrat waale hai.n, aa’la hazrat waale hai.n
aa’la hazrat waale hai.n, aa’la hazrat waale hai.n

shaan se ham to kahte har-dam rahte hai.n
jo bhi raza ke naam se jalte rahte hai.n
un ki jalan me.n wajh-e-kasrat waale hai.n
ham sunni to aa’la hazrat waale hai.n

shukr-e-KHuda ki razvi rangat waale hai.n
ham sunni to aa’la hazrat waale hai.n

peer mila ‘attar hame.n jag me.n aa’la
razvi, ziyai, qadri jis ne kar Daala
BeKHud ! ham to aisi qismat waale hai.n
ham sunni to aa’la hazrat waale hai.n

shukr-e-KHuda ki razvi rangat waale hai.n
ham sunni to aa’la hazrat waale hai.n

aa’la hazrat waale hai.n, aa’la hazrat waale hai.n
aa’la hazrat waale hai.n, aa’la hazrat waale hai.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *