Habeeb-e-Khuda Lo Salaam Ab Hamaara Naat Lyrics

Habeeb-e-Khuda Lo Salaam Ab Hamaara Naat Lyrics

 

हबीब-ए-ख़ुदा ! लो सलाम अब हमारा
शह-ए-अम्बिया ! लो सलाम अब हमारा

जुदा आप से रह के मुश्किल है जीना
ये हसरत है दिल में कि देखें मदीना
इधर भी हो, आक़ा ! करम का इशारा
हबीब-ए-ख़ुदा ! लो सलाम अब हमारा

हबीब-ए-ख़ुदा ! लो सलाम अब हमारा
शह-ए-अम्बिया ! लो सलाम अब हमारा

मुसीबत हमारे सरों पे खड़ी है
करम कर दो, आक़ा ! करम की घड़ी है
ग़ुलामों ने रो रो के तुम को पुकारा
हबीब-ए-ख़ुदा ! लो सलाम अब हमारा

हबीब-ए-ख़ुदा ! लो सलाम अब हमारा
शह-ए-अम्बिया ! लो सलाम अब हमारा

गुनाहों से शर्मिंदा सर को झुकाए
सभी उम्मती आस तुम से लगाए
करम हम पे कर दो, करम अब ख़ुदा-रा
हबीब-ए-ख़ुदा ! लो सलाम अब हमारा

हबीब-ए-ख़ुदा ! लो सलाम अब हमारा
शह-ए-अम्बिया ! लो सलाम अब हमारा

हवाएँ मुख़ालिफ़ हैं, आक़ा ! बचा लो
हमें काली कमली में, आक़ा ! छुपा लो
ग़रीबों का कोई नहीं है सहारा
हबीब-ए-ख़ुदा ! लो सलाम अब हमारा

हबीब-ए-ख़ुदा ! लो सलाम अब हमारा
शह-ए-अम्बिया ! लो सलाम अब हमारा

परेशान दिल है, करम की नज़र हो
दु’आओं में, आक़ा ! हमारी असर हो
यही कह रहा है हर इक ग़म का मारा
हबीब-ए-ख़ुदा ! लो सलाम अब हमारा

हबीब-ए-ख़ुदा ! लो सलाम अब हमारा
शह-ए-अम्बिया ! लो सलाम अब हमारा

दो, शुहदा-ए-कर्बल के प्यासों का सदक़ा
हमें दे दो प्यारे नवासों का सदक़ा
‘अली, फ़ातिमा का ‘अता हो उतारा
हबीब-ए-ख़ुदा ! लो सलाम अब हमारा

हबीब-ए-ख़ुदा ! लो सलाम अब हमारा
शह-ए-अम्बिया ! लो सलाम अब हमारा

बदलते नहीं हैं ये हालात, आक़ा !
मुसीबत से कटते हैं दिन-रात, आक़ा !
ये कहता है, सरकार ! मँगता तुम्हारा
हबीब-ए-ख़ुदा ! लो सलाम अब हमारा

हबीब-ए-ख़ुदा ! लो सलाम अब हमारा
शह-ए-अम्बिया ! लो सलाम अब हमारा

शायर:
शम्स वारसी और ज़ाहिद नाज़ाँ

नात-ख़्वाँ:
ज़ाहिद नाज़ाँ और ओवैस ज़ाहिद नाज़ाँ

 

habeeb-e-KHuda ! lo salaam ab hamaara
shah-e-ambiya ! lo salaam ab hamaara

juda aap se rah ke mushkil hai jeena
ye hasrat hai dil me.n ki dekhe.n madina
idhar bhi ho, aaqa ! karam ka ishaara
habeeb-e-KHuda ! lo salaam ab hamaara

habeeb-e-KHuda ! lo salaam ab hamaara
shah-e-ambiya ! lo salaam ab hamaara

museebat hamaare saro.n pe kha.Di hai
karam kar do, aaqa ! karam ki gha.Di hai
Gulaamo.n ne ro ro ke tum ko pukaara
habeeb-e-KHuda ! lo salaam ab hamaara

habeeb-e-KHuda ! lo salaam ab hamaara
shah-e-ambiya ! lo salaam ab hamaara

gunaaho.n se sharminda sar ko jhukaae
sabhi ummati aas tum se lagaae
karam ham pe kar do, karam ab KHuda-ra
habeeb-e-KHuda ! lo salaam ab hamaara

habeeb-e-KHuda ! lo salaam ab hamaara
shah-e-ambiya ! lo salaam ab hamaara

hawaae.n muKHaalif hai.n, aaqa ! bacha lo
hame.n kaali kamli me.n, aaqa ! chhupa lo
Gareebo.n ka koi nahi.n hai sahaara
habeeb-e-KHuda ! lo salaam ab hamaara

habeeb-e-KHuda ! lo salaam ab hamaara
shah-e-ambiya ! lo salaam ab hamaara

pareshaan dil hai, karam ki nazar ho
du’aao.n me.n, aaqa ! hamaari asar ho
yahi kah raha hai har ik Gam ka maara
habeeb-e-KHuda ! lo salaam ab hamaara

habeeb-e-KHuda ! lo salaam ab hamaara
shah-e-ambiya ! lo salaam ab hamaara

do, shuhda-e-karbal ke pyaaso.n ka sadqa
hame.n de do pyaare nawaaso.n ka sadqa
‘ali, fatima ka ‘ata ho utaara
habeeb-e-KHuda ! lo salaam ab hamaara

habeeb-e-KHuda ! lo salaam ab hamaara
shah-e-ambiya ! lo salaam ab hamaara

badalte nahi.n hai.n ye haalaat, aaqa !
museebat se kaT.te hai.n din-raat, aaqa !
ye kahta hai, sarkaar ! ma.ngta tumhara
habeeb-e-KHuda ! lo salaam ab hamaara

habeeb-e-KHuda ! lo salaam ab hamaara
shah-e-ambiya ! lo salaam ab hamaara

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *