Ghaus-e-Aa’zam Ka Darbaar Allah Allah Kya Kahna Naat Lyrics

Ghaus-e-Aa’zam Ka Darbaar Allah Allah Kya Kahna Naat Lyrics

 

 

ग़ौस-ए-आ’ज़म का दरबार, अल्लाह ! अल्लाह ! क्या कहना !
बग़दादी नूरी बाज़ार, अल्लाह ! अल्लाह ! क्या कहना !

तुम हो हमारे, हम हैं तुम्हारे, तुम हो नबी के प्यारे
दरबार-ए-नबी में ग़ौस-ए-आ’ज़म टूटे दिलों के सहारे
उजड़ों को कर दे गुलज़ार, अल्लाह ! अल्लाह ! क्या कहना !

ग़ौस-ए-आ’ज़म का दरबार, अल्लाह ! अल्लाह ! क्या कहना !
बग़दादी नूरी बाज़ार, अल्लाह ! अल्लाह ! क्या कहना !

चोर को पल में वली बनाया, नज़र से बिगड़ी बनाई
डूबी कश्ती बारह बरस की पल में पार लगाई
बुढ़िया कहती थी हर बार, अल्लाह ! अल्लाह ! क्या कहना !

ग़ौस-ए-आ’ज़म का दरबार, अल्लाह ! अल्लाह ! क्या कहना !
बग़दादी नूरी बाज़ार, अल्लाह ! अल्लाह ! क्या कहना !

क़ुतुब, औलिया, ग़ौस, क़लंदर, एक से एक हैं बढ़ कर
सारे औलिया लेने सलामी आए ग़ौस के दर पर
वो हैं वलियों के सरदार, अल्लाह ! अल्लाह ! क्या कहना !

ग़ौस-ए-आ’ज़म का दरबार, अल्लाह ! अल्लाह ! क्या कहना !
बग़दादी नूरी बाज़ार, अल्लाह ! अल्लाह ! क्या कहना !

ऐसे ग़ौस का है ये हाफ़िज़, छूटे न हाथ से दामन
बिगड़े काम बनाए आक़ा, क़ुर्बां उन पे तन-मन
वो करते हैं बेड़ा पार, अल्लाह ! अल्लाह ! क्या कहना !

ग़ौस-ए-आ’ज़म का दरबार, अल्लाह ! अल्लाह ! क्या कहना !
बग़दादी नूरी बाज़ार, अल्लाह ! अल्लाह ! क्या कहना !

ना’त-ख़्वाँ:
सय्यिद फ़ुर्क़ान क़ादरी

 

Gaus-e-aa’zam ka darbaar
allah ! allah ! kya kahna !
baGdaadi noori baazaar
allah ! allah ! kya kahna !

tum ho hamaare, ham hai.n tumhaare
tum ho nabi ke pyaare
darbaar-e-nabi me.n Gaus-e-aa’zam
TooTe dilo.n ke sahaare
uj.Do.n ko kar de gulzaar
allah ! allah ! kya kahna !

Gaus-e-aa’zam ka darbaar
allah ! allah ! kya kahna !
baGdaadi noori baazaar
allah ! allah ! kya kahna !

chor ko pal me.n wali banaaya
nazar se big.Di banaai
Doobi kashti baarah baras ki
pal me.n paar lagaai
bu.Dhiya kahti thi har baar
allah ! allah ! kya kahna !

Gaus-e-aa’zam ka darbaar
allah ! allah ! kya kahna !
baGdaadi noori baazaar
allah ! allah ! kya kahna !

qutub, auliya, Gaus, Qalandar
ek se ek hai.n ba.Dh kar
saare auliya lene salaami
aae Gaus ke dar par
wo hai.n waliyo.n ke sardaar
allah ! allah ! kya kahna !

Gaus-e-aa’zam ka darbaar
allah ! allah ! kya kahna !
baGdaadi noori baazaar
allah ! allah ! kya kahna !

aise Gaus ka hai ye Haafiz
chhooTe na haath se daaman
big.De kaam banaae aaqa
qurbaa.n un pe tan-man
wo karte hai.n be.Da paar
allah ! allah ! kya kahna !

Gaus-e-aa’zam ka darbaar
allah ! allah ! kya kahna !
baGdaadi noori baazaar
allah ! allah ! kya kahna !

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *