Behtari Jis Pe Kare Fakhr Wo Behtar Siddiq Naat Lyrics

Behtari Jis Pe Kare Fakhr Wo Behtar Siddiq Naat Lyrics

 

 

बेहतरी जिस पे करे फ़ख़्र वो बेहतर सिद्दीक़
सरवरी जिस पे करे नाज़ वो सरवर सिद्दीक़

चमनिस्तान-ए-नुबुव्वत की बहार-ए-अव्वल
गुलशन-ए-दीं के बने पहले गुल-ए-तर सिद्दीक़

बे-गुमाँ शम्’-ए-नुबुव्वत के हैं आईने चार
या’नी ‘उस्मान-ओ-‘उमर, हैदर-ओ-अकबर-सिद्दीक़

सारे असहाब-ए-नबी तारे हैं उम्मत के लिए
इन सितारों में बने मेहर-ए-मुनव्वर सिद्दीक़

बाल बच्चों के लिए घर में ख़ुदा को छोड़ें
मुस्तफ़ा पर करें घर-बार निछावर सिद्दीक़

एक घर-बार तो क्या ग़ार में जाँ भी दे दें
सॉंप डसता रहे लेकिन न हों मुज़्तर सिद्दीक़

इस इमामत से खुला, तुम हो इमाम-ए-अकबर
थी यही रम्ज़-ए-नबी, कहते हैं हैदर, सिद्दीक़ !

तू है आज़ाद सक़र से, तेरे बंदे आज़ाद
है ये सालिक भी तेरा बंदा-ए-बे-ज़र, सिद्दीक़ !

शायर:
मुफ़्ती अहमद यार ख़ान न’ईमी

ना’त-ख़्वाँ:
हसनैन रज़ा अत्तारी

 

behtari jis pe kare faKHr wo behtar siddiq
sarwari jis pe kare naaz wo sarwar siddiq

chamanistaan-e-nubuwwat ki bahaar-e-awwal
gulshan-e-dee.n ke bane pehle gul-e-tar siddiq

be-gumaa.n sham’-e-nubuwwat ke hai.n aaeene chaar
yaa’ni ‘usmaan-o-‘umar, haidar-o-akbar-siddiq

saare ashaab-e-nabi taare hai.n ummat ke liye
in sitaaro.n me.n bane mehr-e-munawwar siddiq

baal bachcho.n ke liye ghar me.n KHuda ko chho.De.n
mustafa par kare.n ghar-baar nichhaawar siddiq

ek ghar-baar to kya Gaar me.n jaa.n bhi de de.n
saa.np Dasta rahe lekin na ho.n muztar siddiq

is imaamat se khula, tum ho imaam-e-akbar
thi yahi ramz-e-nabi, kehte hai.n haidar, siddiq !

tu hai aazaad saqar se, tere bande aazaad
hai ye Saalik bhi tera banda-e-be-zar, siddiq !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *