Be-had Zaleel-o-Khwaar Hoon Maula Tu Bakhsh de Naat Lyrics

Be-had Zaleel-o-Khwaar Hoon Maula Tu Bakhsh de Naat Lyrics

 

 

‘अद्ल करें ते थर थर कंबण उचियाँ शानाँ वाले
फ़ज़्ल करें ते बख़्शे जावण मैं वर्गे मुँह काले

बे-हद ज़लील-ओ-ख़्वार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे
तौबा, मेरी तौबा, मेरी तौबा, तू बख़्श दे

मैं आज बे-क़रार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे
‘इस्याँ के ज़ेर-ए-बार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे
मग़्मूम-ओ-दिल-फ़िगार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे
शर्मिंदा, किर्दगार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे

मैं ज़ार हूँ, निज़ार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे
मैं ज़ार हूँ, निज़ार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे

तौबा, मेरी तौबा ! तौबा, मेरी तौबा !

मैंने भुला दिया, मुझे मरना है एक दिन
मर कर अँधेरी क़ब्र में जाना है एक दिन
आ’माल का हिसाब भी देना है एक दिन
हाँ ! पुल-सिरात से भी गुज़रना है एक दिन

मुजरिम हूँ, ना-बकार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे
मुजरिम हूँ, ना-बकार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे

बे-हद ज़लील-ओ-ख़्वार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे
तौबा, मेरी तौबा, मेरी तौबा, तू बख़्श दे

कुछ रख सका लिहाज भी न मम्नू’आत का
क्या क्या न इर्तिकाब किया मुन्करात का
हासिल न हो सका मुझे ‘इरफ़ान ज़ात का
अफ़सोस ! मैं ग़ुलाम रहा ख़्वाहिशात का

नादान हूँ, गँवार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे
नादान हूँ, गँवार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे

तौबा, मेरी तौबा ! तौबा, मेरी तौबा !

इस दर्जा बढ़ गई मेरे दिल की ये मुर्दगी
मैं ला सका न अपने ‘अमल में भी ‘उम्दगी
और कर सका न कुछ भी अदा हक़-ए-बंदगी
बर्बाद कर गया हूँ, ख़ुदा ! अपनी ज़िंदगी

ज़ाहिर में दीन-दार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे
ज़ाहिर में दीन-दार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे

बे-हद ज़लील-ओ-ख़्वार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे
तौबा, मेरी तौबा, मेरी तौबा, तू बख़्श दे

कोई न देख ले यही धड़का मुझे लगा
तू देखता रहा, मुझे एहसास न रहा
मैं बद-लिहाज़, ‘अफ़्व पे भूला रहा सदा
बे-शर्म बन गया, मुझे आई न कुछ हया

मैं वो सियाह-कार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे
मैं वो सियाह-कार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे

तौबा, मेरी तौबा ! तौबा, मेरी तौबा !

इक़रार है मुझे, मेरे मौला ! मैं हूँ ल’ईन
मायूस पर नहीं तेरी रहमत से, ए रहीम !
ख़ाली न भेज दर से तेरे, ए मेरे करीम !
मेरे गुनाह भी बख़्श, तेरी शान है ‘अज़ीम

मैं भी उम्मीदवार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे
मैं भी उम्मीदवार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे

बे-हद ज़लील-ओ-ख़्वार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे
तौबा, मेरी तौबा, मेरी तौबा, तू बख़्श दे

करतूत देखता हूँ तो उठता है दिल में हौल
रहमत पुकारती है कि मुसहफ़ ज़रा तू खोल
ला-तक़्नतू भी तुझ को मिलेगा ख़ुदा का क़ौल
सारे गुनाह धुलेंगे बस इक बार ‘उबैद बोल

या रब ! मैं शर्मसार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे
या रब ! मैं शर्मसार हूँ, मौला ! तू बख़्श दे

तौबा, मेरी तौबा ! तौबा, मेरी तौबा !
तौबा, मेरी तौबा ! तौबा, मेरी तौबा !

शायर:
ओवैस रज़ा क़ादरी

ना’त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी

 

‘adl kare.n te thar thar kanban
uchiyaa.n shaanaa.n waale
fazl kare.n te baKHshe jaawan
mai.n warge moonh kaale

be-had zaleel-o-KHwaar hu.n
maula ! tu baKHsh de
tauba, meri tauba, meri –
tauba, tu baKHsh de

mai.n aaj be-qaraar hu.n
maula ! tu baKHsh de
‘isyaa.n ke zer-e-baar hu.n
maula ! tu baKHsh de

maGmoom-o-dil-figaar hu.n
maula ! tu baKHsh de
sharminda, kirdgaar hu.n
maula ! tu baKHsh de

mai.n zaar hu.n, nizaar hu.n
maula ! tu baKHsh de
mai.n zaar hu.n, nizaar hu.n
maula ! tu baKHsh de

tauba, meri tauba ! tauba, meri tauba !

mai.n ne bhula diya, mujhe marna hai ek din
mar kar andheri qabr me.n jaana hai ek din
aa’maal ka hisaab bhi dena hai ek din
haa.n ! pul-siraat se bhi guzarna hai ek din

mujrim hu.n, naa-bakaar hu.n
maula ! tu baKHsh de
mujrim hu.n, naa-bakaar hu.n
maula ! tu baKHsh de

be-had zaleel-o-KHwaar hu.n
maula ! tu baKHsh de
tauba, meri tauba, meri –
tauba, tu baKHsh de

kuchh rakh saka lihaaj bhi na mamnoo’aat ka
kya kya na irtikaab kiya munkaraat ka
haasil na ho saka mujhe ‘irfaan zaat ka
afsos ! mai.n Gulaam raha KHwaahishaat ka

naadaan hu.n, ganwaar hu.n
maula ! tu baKHsh de
naadaan hu.n, ganwaar hu.n
maula ! tu baKHsh de

tauba, meri tauba ! tauba, meri tauba !

is darja ba.Dh gai mere dil ki ye murdagi
mai.n laa saka na apne ‘amal me.n bhi ‘umdagi
aur kar saka na kuchh bhi ada haq-e-bandagi
barbaad kar gaya hu.n, KHuda ! apni zindagi

zaahir me.n deen-daar hu.n
maula ! tu baKHsh de
zaahir me.n deen-daar hu.n
maula ! tu baKHsh de

be-had zaleel-o-KHwaar hu.n
maula ! tu baKHsh de
tauba, meri tauba, meri –
tauba, tu baKHsh de

koi na dekh le yahi dha.Dka mujhe laga
tu dekhta raha, mujhe ehsaas na raha
mai.n bad-lihaaz, ‘afw pe bhoola raha sada
be-sharm ban gaya, mujhe aai na kuchh haya

mai.n wo siyaah-kaar hu.n
maula ! tu baKHsh de
mai.n wo siyaah-kaar hu.n
maula ! tu baKHsh de

tauba, meri tauba ! tauba, meri tauba !

iqraar hai mujhe, mere maula ! mai.n hu.n la’een
maayoos par nahi.n teri rahmat se, ai raheem !
KHaali na bhej dar se tere, ai mere kareem !
mere gunaah bhi baKHsh, teri shaan hai ‘azeem

mai.n bhi ummeedwaar hu.n
maula ! tu baKHsh de
mai.n bhi ummeedwaar hu.n
maula ! tu baKHsh de

be-had zaleel-o-KHwaar hu.n
maula ! tu baKHsh de
tauba, meri tauba, meri –
tauba, tu baKHsh de

kartoot dekhta hu.n to uThta hai dil me.n haul
rahmat pukaarti hai ki mus.haf zara tu khol
laa-taqnatoo bhi tujh ko milega KHuda ka qaul
saare gunaah dhulenge bas ik baar ‘Ubaid bol

ya rab ! mai.n sharmsaar hu.n
maula ! tu baKHsh de
ya rab ! mai.n sharmsaar hu.n
maula ! tu baKHsh de

tauba, meri tauba ! tauba, meri tauba !
tauba, meri tauba ! tauba, meri tauba !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *