Ai Mere Maula Mujhe Haj Par Bula Naat Lyrics

Ai Mere Maula Mujhe Haj Par Bula Naat Lyrics

 

 

अल्लाह ! मेरे अल्लाह !
अल्लाह ! मेरे अल्लाह !

मुद्दतों से है मेरी ये इल्तिजा
काश ! मैं भी देख लूँ का’बा तेरा
तुझ को देता हूँ नबी का वास्ता
ए मेरे मौला ! मुझे हज पर बुला

या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा ! या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा !
या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा ! या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा !

जब पड़ेगी का’बे पे पहली नज़र
भूल जाऊँगा ग़म-ए-क़ल्ब-ओ-जिगर
मुश्किलों से होगा दिल मेरा रिहा
ए मेरे मौला ! मुझे हज पर बुला

या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा ! या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा !
या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा ! या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा !

ख़ुश-नसीबों में मेरा भी नाम हो
रौज़ा-ए-सरकार पर इक शाम हो
आरज़ू और कुछ नहीं इस के सिवा
ए मेरे मौला ! मुझे हज पर बुला

या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा ! या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा !
या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा ! या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा !

वास्ता तुझ को शह-ए-अबरार का
फ़ातिमा का, हैदर-ए-कर्रार का
मुझ को भी ज़ाइर मदीने का बना
ए मेरे मौला ! मुझे हज पर बुला

या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा ! या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा !
या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा ! या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा !

या ख़ुदा ! दे मौत शहर-ए-यार में
या’नी पा-ए-अहमद-ए-मुख़्तार में
है दिल-ए-राग़िब की भी ये इल्तिजा
ए मेरे मौला ! मुझे हज पर बुला

या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा ! या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा !
या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा ! या ख़ुदा ! मेरे ख़ुदा !

शायर:
मिस्बाह-उल-हक़ राग़िब

ना’त-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी

 

allah ! mere allah !
allah ! mere allah !

muddato.n se hai meri ye iltija
kaash ! mai.n bhi dekh lu.n kaa’ba tera
tujh ko deta hu.n nabi ka waasta
ai mere maula ! mujhe haj par bula

ya KHuda ! mere KHuda !
ya KHuda ! mere KHuda !

jab pa.Degi kaa’be pe pehli nazar
bhool jaaunga Gam-e-qalb-o-jigar
mushkilo.n se hoga dil mera riha
ai mere maula ! mujhe haj par bula

ya KHuda ! mere KHuda !
ya KHuda ! mere KHuda !

KHush-naseebo.n me.n mera bhi naam ho
rauza-e-sarkaar par ik shaam ho
aarzoo aur kuchh nahi.n is ke siwa
ai mere maula ! mujhe haj par bula

ya KHuda ! mere KHuda !
ya KHuda ! mere KHuda !

waasta tujh ko shah-e-abraar ka
faatima ka, haidar-e-karraar ka
mujh ko bhi zaair madine ka bana
ai mere maula ! mujhe haj par bula

ya KHuda ! mere KHuda !
ya KHuda ! mere KHuda !

ya KHuda ! de maut shahr-e-yaar me.n
yaa’ni paa-e-ahmad-e-muKHtaar me.n
hai dil-e-RaaGib ki bhi ye iltija
ai mere maula ! mujhe haj par bula

ya KHuda ! mere KHuda !
ya KHuda ! mere KHuda !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *