Aaya Na Hoga Is Tarah Husno-Shabaab Ret Par Naat Lyrics

Aaya Na Hoga Is Tarah Husno-Shabaab Ret Par Naat Lyrics

 

आया न होगा इस तरह हुस्नो-शबाब रेत पर
गुलशन-ए-फ़ातिमा के थे सारे गुलाब रेत पर

जान-ए-बतूल के सिवा कोई नहीं खिला सका
कतरा-ए-आब के बग़ैर इतने गुलाब रेत पर

गुलशन-ए-फ़ातिमा के थे सारे गुलाब रेत पर

जितने सवाल इश्क़ ने आले-रसूल से किये
एक के बाद एक दिये सारे जवाब रेत पर

गुलशन-ए-फ़ातिमा के थे सारे गुलाब रेत पर

इश्क़ में क्या बचाइये, इश्क़ में क्या लुटाइये
आले-नबी ने लिख दिया सारा निसाब रेत पर

गुलशन-ए-फ़ातिमा के थे सारे गुलाब रेत पर

प्यासा हुसैन को कहूं इतना तो बे-अदब नहीं
लमसे लबे हुसैन को तरसा है आब रेत पर

गुलशन-ए-फ़ातिमा के थे सारे गुलाब रेत पर

आले-नबी का काम था, आले-नबी ही कर गए
कोई न लिख सका अदीब ऐसी किताब रेत पर

Leave a Comment