Aabroo-e-Mominaan Ahmad Raza Khaan Qadri Naat Lyrics

Aabroo-e-Mominaan Ahmad Raza Khaan Qadri Naat Lyrics

 

 

आबरू-ए-मोमिनाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !
रहनुमा-ए-गुमरहाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !

‘इल्म में बहर-ए-रवाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !
दीन में गौहर-फ़िशाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !

आबरू-ए-मोमिनाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !
रहनुमा-ए-गुमरहाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !

आबरू-ए-मोमिनाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !

अहल-ए-सुन्नत के सरों पर दाइमा रखे ख़ुदा
तुझ को बा-अमन-ओ-अमाँ, अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !

आबरू-ए-मोमिनाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !
रहनुमा-ए-गुमरहाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !

आबरू-ए-मोमिनाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !

हक़ त’आला ने किए बे-हद कमालात-ओ-‘उलूम
तेरे सीने में निहाँ, अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !

आबरू-ए-मोमिनाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !
रहनुमा-ए-गुमरहाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !

आबरू-ए-मोमिनाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !

याद रखेंगे क़यामत तक ग़ुलामान-ए-रसूल
तेरे जलसों का समाँ, अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !

आबरू-ए-मोमिनाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !
रहनुमा-ए-गुमरहाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !

आबरू-ए-मोमिनाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !

दे मुबारकबाद इन को, क़ादरी रज़वी जमील !
जिन के मुर्शिद हैं मियाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी

आबरू-ए-मोमिनाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !
रहनुमा-ए-गुमरहाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !

आबरू-ए-मोमिनाँ अहमद रज़ा ख़ाँ क़ादरी !

शायर:
मुहम्मद जमील-उर-रहमान रज़वी

नात-ख़्वाँ:
मुहम्मद हसनैन रज़ा अत्तारी

 

aabroo-e-mominaa.n ahmad raza khaa.n qadri !
rahnuma-e-gumrhaa.n ahmad raza khaa.n qadri !

‘ilm me.n bahr-e-rawaa.n ahmad raza khaa.n qadri !
deen me.n gauhar-fishaa.n ahmad raza khaa.n qadri !

aabroo-e-mominaa.n ahmad raza khaa.n qadri !
rahnuma-e-gumrhaa.n ahmad raza khaa.n qadri !

aabroo-e-mominaa.n ahmad raza khaa.n qadri !

ahl-e-sunnat ke saro.n par daaima rakhe KHuda
tujh ko baa-aman-o-amaa.n, ahmad raza khaa.n qadri !

aabroo-e-mominaa.n ahmad raza khaa.n qadri !
rahnuma-e-gumrhaa.n ahmad raza khaa.n qadri !

aabroo-e-mominaa.n ahmad raza khaa.n qadri !

haq ta’aala ne kiye be-had kamaalaat-o-‘uloom
tere seene me.n nihaa.n, ahmad raza khaa.n qadri !

aabroo-e-mominaa.n ahmad raza khaa.n qadri !
rahnuma-e-gumrhaa.n ahmad raza khaa.n qadri !

aabroo-e-mominaa.n ahmad raza khaa.n qadri !

yaad rakhenge qayaamat tak Gulaamaan-e-rasool
tere jalso.n ka samaa.n, ahmad raza khaa.n qadri !

aabroo-e-mominaa.n ahmad raza khaa.n qadri !
rahnuma-e-gumrhaa.n ahmad raza khaa.n qadri !

aabroo-e-mominaa.n ahmad raza khaa.n qadri !

de mubaarakbaad in ko, qadri razvi Jameel !
jin ke murshid hai.n miyaa.n ahmad raza khaa.n qadri !

aabroo-e-mominaa.n ahmad raza khaa.n qadri !
rahnuma-e-gumrhaa.n ahmad raza khaa.n qadri !

aabroo-e-mominaa.n ahmad raza khaa.n qadri !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *