Zameen Mashriq Se Maghrib Tak lyrics

 

Zameen Mashriq Se Maghrib Tak lyrics

ज़मीं मशरिक़ से मग़रिब तक बरबार साफ़ होयेगी

Voice: Muhammad Zubair

 

Zameen Mashriq Se Maghrib Tak Barabar Saaf Hoyegi
Sitare Toot Jaayenge Zameen Ko Zalzala Hoga

ज़मीं मशरिक़ से मग़रिब तक बरबार साफ़ होयेगी
सितारे टूट जायेंगे ज़मीं को ज़लज़ला होगा

 

Na Us Din Baap Bete Ka Na Beta Baap Ka Hoga
Khuda Ke Rubaroo Jis Din Kayamat Ka Bapa Hoga

ना उस दिन बाप बेटे का ना बेटा बाप का होगा
ख़ुदा के रुबरु जिस दिन कयामत का बपा होगा

 

Na Hamshira Baradar Ki Na Zouja Apne Shouhar Ki
Woh Aisa Waqt Hoga Bhai Bhai Se Juda Hoga

ना हमशीरा बरादर की ना ज़ौजा अपने शौहर की
वोह ऐसा वक़्त होगा भाई भाई से जुदा होगा

 

Wah Aisi Rob Ki Ja Hai Ke Darbar-e-Ilahi Me
Hazaron Sar Bulandon Ka Ajizo Sar Jhuka Hoga

वाह ऐसी रोब की जा है के दरबार-ए-इलाही में
हज़ारों सर बुलन्दों का अजीज़ो सर झुका होगा

 

Khuda Baithega Jis Dum Adl Ki Kursi Pe Ae Yaro
Badon Ki Badjaza Hogi Bhalon Ka Han Bhala Hoga

ख़ुदा बैठेगा जिस दम अदल की कुर्सी पे ऐ यारो
बदों की बदजज़ा होगी भलों का हां भला होगा

 

Jo Kahte Hain Sirate Mustaqim Ik Sakht Manzil Hai
Har Ik Ko Uske Upar Se Ajeezo Doudna Hoga

जो कहते हैं सिराते मुस्तक़ीम इक सख्त मंज़िल है
हर इक को उसके ऊपर से अजीज़ो दौड़ना होगा

 

Koi Jayenge Jannat Me Koi Naare Jahannam Me
Gharaz Har Nek-o-Bud Ka Wah Faisla Hoga

कोई जायेंगे जन्नत में कोई नारे जहन्नम में
ग़रज हर नेक-ओ-बद का वाह बराबर फ़ैसला होगा

 

Emotional Kalam-Fikar E Akhrat

By sulta