Zaba Zikre Rasoole Paak Ki Shouqin Ho Jaaye Naat Lyrics

 

ज़बां ज़िक्रे रसूले पाक की शौकीन हो जाए
सुकूं मिल जाए दिल को रुह को तस्कीन मिल जाए
Zaba.n Zikre Rasoole Paak Ki Shouqin Ho Jaaye
Sukoo.n Mil Jaaye Dil Ko Rooh Ko Taskeen Ho Jaye

 

हमारा फ़र्ज़ है हम उस ज़बां को काट कर रख दें
कि जिससे भी रसूले पाक की तौहीन हो जाए
Hamara Farz Hai Ham Us Zaba.n Ko Kaat Kar Rakh Den
Ki Jis se Bhi Rasoole Paak Ki Touhin Ho Jaaye

 

मेरा दिल मुझसे कहता है उसे तुम जन्नती लिख दो
कि जब कोई ग़ुलामे हज़रते तहसीन हो जाए
Mera Dil Mujhse Kahta Hai Use Tum Jannati Likh Do
Ki Jab Koi Ghulame Hazrat e Tahseen Ho Jaaye

 

ख़बर वो मेरे मुर्शिद की जब आई थी बरेली में
वोह लम्हा याद आ जाए तो दिल ग़मगीन हो जाए
Khabar Woh Mere Murshid Ki Jab Aai Thi Bareilly Me
Woh Lamha Yaad Aa Jaye To Dil Ghamgeen Ho Jaaye

 

कलामे आला हज़रत जब पढ़ा जाने लगे अज़हर
तो महफ़िल नात की फिर और भी नमकीन हो जाए
Kalame Aala Hazrat Jab Padha Jaane Lagey Azhar
To Mahfil Naat Ki Phir Aur Bhi Namkin Ho Jaaye

 

By sulta