Zaat e zahra par mukammal tabsira mumkin nahin lyrics

 

 

Zaat e zahra par mukammal tabsira mumkin nahin
Qabl kul ka likh sakun main marhala mumkin nahin

ज़ात ए ज़हरा पर मुकम्मल तबसिरा मुमकिन नहीं
क़ब्ल कुल का लिख सकूं मैं मरहला मुमकिन नहीं

 

Kibriya ya murtaza ya mustafa likkha faqat
Fatima ka is se kam to qaafiya mumkin nahin

किबरिया या मुर्तुज़ा या मुस्तफ़ा लिक्खा फ़क़त
फ़ातिमा का इससे कम तो क़ाफ़िया मुमकिन नहीं

 

Karbala ke baad jaise karbala mumkin nahin
Fatima ke baad koi fatima mumkin nahin

कर्बला के बाद जैसे कर्बला मुमकिन नहीं
फ़ातिमा के बाद कोई फ़ातिमा मुमकिन नहीं

 

Hazrate abbas gar naraz hain to jaan lo
Mubtila ke waste koi dua mumkin nahin

हज़रते अब्बास गर नाराज़ हैं तो जान लो
मुब्तिला के वास्ते कोई दुआ मुमकिन नहीं

 

Fatima ke naam ke maani ka jab bhi zikr ho
Us jagah pe hurr ka na ho tazkira mumkin nahin

फ़ातिमा के नाम की मा’नी का जब भी ज़िक्र हो
उस जगह पे हो हुर्र का ना हो तज़किरा मुमकिन नहीं

 

Kis tarha khainchu naya haasiya quraan par
Aaya-e-tatheer se badhkar sana mumkin nahin

किस तरह खैंचूं नया हासिया कुरआन पर
आया-ए-ततहीर से बढ़कर सना मुमकिन नहीं

 

Ho fasahat ho balaghat isme zahra ki baya.n
Isme fizza ka bhi tak, tarjuma mumkin nahin

हो फ़साहत हो बलाग़त इसमें ज़हरा की बयां
इसमें फ़िज़्ज़ा का भी तक, तर्जुमा मुमकिन नहीं

 

Jo aza ke ya bila ke bughz se do chaar hai
Le dawa lukmaan ki lekin shifa mumkin nahin

जो अज़ा के या बिला के बुग़्ज़ से दो चार है
ले दवा लुकमान की लेकिन शिफ़ा मुमकिन नहीं

 

Aaj tak badle na sadiq meesami tewar kabhi
Faisla ham kar chuke ab faasla mumkin nahin

आज तक बदले न सादिक़ मीसमी तेवर कभी
फ़ैसला हम कर चुके अब फ़ासला मुमकिन नहीं

Voice: Syed Mudassir Mehdi
Poet: Saeed Sadiq

Zaat e zahra par lyrics hindi

By sulta