Ye Nawazisheñ Ye Inayateñ Naat Lyrics

 

Qatah | क़ता

Unki Bakhshish Ka Thikaana Hi Nahiñ Hai Koi
Har Gunaahgaar Pe Rahmat Ki Nazar Rakhte Haiñ
उनकी बख़्शिश का ठिकाना ही नहीं है कोई
हर गुनहगार पे रहमत की नज़र रखते हैं

Kaun Kis Haal Meiñ Hai, Kis Ne Pukaara Unko
Mere Sarkaar Do Aalam ki Khabar Rakhte Hain
कौन किस हाल में है, किसने पुकारा उनको
मेरे सरकार, दो आलम की ख़बर रखते हैं!

 

Naat-e Paak | नात ए पाक

Ye Nawazisheñ Ye Inayateñ Gham e Do Jahañ Se Chhuda Diya
Gham e Mustufa ﷺ Tera Shukriya Hameñ Marna Jeena Sikha Diya
ये नवाज़िशें ये इनायतें ग़म-ए-दो-जहां से छुड़ा दिया,
ग़म ए मुस्तुफ़ा ﷺ तेरा शुक्रिया हमें मरना-जीना सिखा दिया।

 

Woh Khuda Hai Jis Ka Khayaal Bhi Meri Har Pahuñch Se Buland Hai,
Woh Nabi ﷺ Ka Husn o Jamaal hai Ke Khuda Ka Jis Ne Pata Diya
वोह ख़ुदा है जिसका ख़याल भी मेरी हर पहुंच से बुलंद है,
वोह नबी ﷺ का हुस्न ओ जमाल है के ख़ुदा का जिसने पता दिया।

 

Mera Soz Lazzat e Zindagi Mere Ashk Meri Bahaar Haiñ,
Ye Karam Hai Ishq e Rasool Ka Mujhe Dard Ne Bhi Maza Diya.
मेरा सोज़ लज़्ज़त-ए ज़िन्दगी, मेरे अश्क मेरी बहार हैं,
ये करम है इश्क़ ए रसूल का मुझे दर्द ने भी मज़ा दिया।

 

Kahañ Maiñ Kahañ Teri Aarzu Kahañ Maiñ Kahañ Teri JustJū!
Tū Qareeb Tha, Tu Qareeb Hai Jo Hijaab Tha Woh Utha Diya
कहां मैं कहां तेरी आरज़ू, कहां मैं कहां तेरी जुस्तजू,
तू क़रीब था, तू क़रीब है जो हिजाब था वो उठा दिया।

 

Tu Kareem Kitna Azeem Hai Tu Raoof Hai Tu Raheem Hai,
Koi Bheek Maañgne Aagaya To Zaruratoñ Se Siwa Diya
तू करीम कितना अज़ीम है तू रऊफ़ है तू रहीम है,
कोई भीक मांगने आ गया तो ज़रूरतों से सिवा दिया।

 

Jo Malaal Mera Malaal Tha Tumheñ Uska Kitna Khayal tha,
Ke Ujad Gaya Tha Dayaar e Dil Use Aake Tumne Basa Diya
जो मलाल मेरा मलाल था तुम्हें उसका कितना ख़याल था,
के उजड़ गया था दयार ए दिल उसे आ के तुमने बसा दिया।

 

Woh Nigaah Kitni Haseen Thi Jo Tajalliyoñ Ki Ameen Thi,
Ke Jahaañ Pe Husn e Bilaal Ka Naya Naqsh JisNe Jamaa Diya
वोह निगाह कितनी हसीन थी जो तजल्लियों की अमीन थी,
के जहां पे हुस्न ए बिलाल का नया नक़्श जिस ने जमा दिया।

 

Maiñ Hooñ Apne Haal Meiñ Mutmayin Maiñ Kisi Ko Kaise Bataauñga,
Ye Mu’aamlaat Haiñ Raaz Ke Mujhe Unke Ishq Ne Kya Diya
मैं हूं अपने हाल में मुत्मइन मैं किसी को कैसे बताऊंगा,
ये मुआ़मलात हैं राज़ के मुझे उनके इश्क़ ने क्या दिया।

 

Tere Zikr o Fikr Se Zindagi Ba-Har Ei’tbaar Hai Bandagi,
Ye Karam Hai, Meri Nigaah Meiñ Mera Ei’tbaar Badha Diya
तेरे ज़िक्र ओ फिक्र से ज़िन्दगी ब-हर ऐतबार है बन्दगी,
ये करम है मेरे हुज़ूर का मेरा ऐतबार बढ़ा दिया

 

Woh Ghadi Bhi Aaye Ke Khwaab Meiñ Woh Dikhayeñ Apni Tajalliyañ,
Maiñ Kahooñ Ke Mere Huzur Ne Mera Bakht e Khufta Jaga Diya
( Bakht e Khufta = Soya hua Naseeb)
वोह घड़ी भी आए के ख़्वाब में वो दिखाएं अपनी तजल्लियां
मैं कहूं के मेरे हुज़ूर ने मेरा बख़्त ए ख़ुफ्ता जगा दिया।
(बख़्त ए ख़ुफता = सोया हुआ नसीब)

 

Yeh Tumhara Khalid e BeNawa Hai Suroor o Kaif ka Waasta,
Ise Dhooñdhne Lage MaiKade Ise Kaisa Jaam Pila Diya
येह तुम्हारा ख़ालिद ए बेनवा है सुरूर ओ कैफ़ का वास्ता,
इसे ढूंढने लगे मयकदे इसे कैसा जाम पिला दिया।

By sulta