Wah Kya Shan Hai Ae Tajeshari’at Teri Lyrics

 

अख़्तर रज़ा मेरे अख़्तर रज़ा
अख्तर रजा मेरे अख्तर रज़ा

 

वाह क्या शान है ए ताजेशरीअ़त तेरी
ऊंचे ऊंचों की ज़ुबां पर भी है मिदहत तेरी
वाह क्या शान है ए ताजेशरीअ़त तेरी

 

ताजोशरीआ, ताजोशरीआ
ताजोशरीआ, ताजोशरीआ

 

सुन्नते सरवरे आलम पे अमल था तेरा
इश्क़ ए सरकार से मामूर थी सीरत तेरी
वाह क्या शान है ऐ ताजेशरीअ़त तेरी

 

अख़्तर रज़ा मेरे अख़्तर रज़ा
अख्तर रजा मेरे अख्तर रज़ा

 

हज़रत ए मुफ़्ती ए आज़म की करामत तू है
फिर ना क्यूं हिन्द में हर सम्त हो शोहरत तेरी
वाह क्या शान है ऐ ताजेशरीअ़त तेरी

 

ताजोशरीआ, ताजोशरीआ
ताजोशरीआ, ताजोशरीआ

 

दिल को दीवाना बनाए तेरा शीरी लहजा
आंख भर आती है सुन के खितावत तेरी
वाह क्या शान है ऐ ताजेशरीअ़त तेरी

 

अख़्तर रज़ा मेरे अख़्तर रज़ा
अख़्तर रज़ा मेरे अख़्तर रज़ा

 

अल्लाह अल्लाह मेरे पीर तेरा हुस्न ओ जमाल
आज भी नक्श मेरे दिल पे है सूरत तेरी
वाह क्या शान है ऐ ताजेशरीअ़त तेरी

 

ताजोशरीआ, ताजोशरीआ
ताजोशरीआ, ताजोशरीआ

 

देख कर तेरी झलक दिल को सुकूं मिलता था
दिल पे बिजली सी गिरी जब हुई रहलत तेरी
वाह क्या शान है ऐ ताजेशरीअ़त तेरी

 

अख़्तर रज़ा मेरे अख़्तर रज़ा
अख़्तर रज़ा मेरे अख़्तर रज़ा

 

जां नशी मुफ़्ती ए आज़म ने बनाया अपना
देखकर इल्म ओ अमल और शराफ़त तेरी
वाह क्या शान है ऐ ताजेशरीअ़त तेरी

 

ताजोशरीआ, ताजोशरीआ
ताजोशरीआ, ताजोशरीआ

 

फज़्ल ए रब से तेरे दीवानों को हो जाती है
तेरे शहजादे की सूरत में ज़ियारत तेरी
वाह क्या शान है ऐ ताजेशरीअ़त तेरी

 

अख़्तर रज़ा मेरे अख़्तर रज़ा
अख़्तर रज़ा मेरे अख़्तर रज़ा

 

काश आसिम के भी हालात पे हो जाए कभी
ऐ सख़ी इब्ने सख़ी नज़रे इनायत तेरी
वाह क्या शान है ऐ ताजेशरीअ़त तेरी

 

ताजोशरीआ, ताजोशरीआ
ताजोशरीआ, ताजोशरीआ

 

Naat Khwan: Ghulam Mustafa Qadri

By sulta