Tumhara Naam Musibat Me Jab Liya Hoga Lyrics

 

 

Naat Khwan: Owais Raza Qadri

 

तुम्हारा नाम मुसीबत में जब लिया होगा
हमारा बिगड़ा हुआ काम बन गया होगा

Tumhara Naam Musibat Me Jab Liya Hoga
Hamara Bigda Hua Kaam Ban Gaya Hoga

 

गुनाहगार पे जब लुत्फ़ आपका होगा
किया बग़ैर किया बे किया किया होगा

Gunahgar Pe Jab Lutf Apka Hoga
Kiya Baghair Kiya Be Kiya Hoga

 

ख़ुदा का लुत्फ़ हुआ होगा दस्तगीर ज़रूर
जो गिरते गिरते तेरा नाम ले लिया होगा

Khuda Ka Lutf Hua Hoga Dasgir Zaroor
Jo Girte-Girte Tera Naam Le Liya Hoga

 

(फ़क़त इतना सबब है इनइक़ादे बज़्म-ए-महशर का, कि उनकी शाने मह़बूबी दिखाई जाने वाली है)

(Faqat Itna Sabab Hai In’iqade Bazm-e-Mahshar Ka, Ki Unki Shane Mahboobi Dikhaai Jane Wali Hai)

 

(ख़ुदा शाहिद के रोज़े ह़श्र का खटका नहीं रहता
मुझे जब याद आता है कि मेरा कौन वाली है)

(Khuda Shahid Ke Roze Hashr Ka Khatka Nahin Rahta
Mujhe Jab Yaad Aata Hai Ki Ki Mera Koun Waali Hai)

 

(ताबे मेहरे ह़श्र से चौंके ना कुश्ता नूर का
बूंदियां रह़मत की आईं देने छींटा नूर का)

(Taabe Mehre Hashr Se Chounke Na Kushta Noor Ka
Boondiyan Rahmat Ki Aain Dene Chheenta Noor Ka)

 

(क़ब्र की नींद से उठना कोई आसान न था
हम तो महशर में उन्हें देखने आए हुए हैं)

(Qabr Ki Neend Se Uthna Koi Aasan Na Tha
Ham To Mahshar Me Unhe Dekhne Aaye Hue Hain)

 

दिखाई जायेगी महशर में शाने महबूबी
कि आप ही की खुशी आपका कहा होगा

Dikhaai Jayegi Mahshar Me Shaan e Mahboobi
Ki Aap Hee Ki Khushi Aapka Kaha Hoga

 

किसी के पाओं की बेड़ी वो काटते होंगे
कोई असीरे ग़म उनको पुकारता होगा

Kisi Paon Ki Bedi Wo Kaat’te Honge
Koi Aseer e Gham Unko Pukarta Hoga

 

ज़बान सूखी दिखा कर कोई लबे कौसर
जनाबे पाक के क़दमों पे लौटता होगा

Zaban Sookhi Dikha Kar Koi Labe Kousar
Janab e Paak Ke Qadmon Pe Lout’ta Hoga

 

किसी को लेके चलेंगे फ़रिश्ते सुए ज़मी
वो उनका रास्ता फिर फिर के देखता होगा

Kisi Ko Leke Chalenge Farishte Sooye Zami
Wo Unka Rasta Fir Fir Ke Dekhta Hoga

 

शिकस्ता पा हूं मेरे हाल की ख़बर कर दो
कोई किसी से ये रो-रो के कह रहा होगा

Shikasta Paa Hoon Mere Haal Ki Khabar Kar Do
Koi Kisi Se Ye Ro-Ro Ke Kah Raha Hoga

 

कहेंगे और नबी इज़हबू इला ग़ैरी
मेरे हुज़ूर के लब पर अना लहा होगा

Kahenge Aur Izhaboo Ila Ghairi
Mere Huzoor Ke Lab Par Ana Laha Hoga

 

(मुह़म्मद बराए जनाबे इलाही,
जनाबे इलाही बराए मुह़म्मद।)

(Muhammad Baraye Janabe Ilaahi
Janabe Ilaahi Baraye Muhammad)

 

कहेंगे और नबी इज़हबू इला ग़ैरी
मेरे हुज़ूर के लब पर अना लहा होगा

Kahenge Aur Nabi Izhaboo Ila Ghairi
Mere Huzoor Ke Lab Par Ana Laha Hoga

 

कहेंगे और नबी इज़हबू इला ग़ैरी
मेरे हुज़ूर के लब पर अना लहा होगा

Kahenge Aur Nabi Izhaboo Ila Ghairi
Mere Huzoor Ke Lab Par Ana Laha Hoga

 

(मुह़म्मद बराए जनाबे इलाही,
जनाबे इलाही बराए मुह़म्मद।)

(Muhammad Baraye Janabe Ilaahi
Janabe Ilaahi Baraye Muhammad)

 

कहेंगे और नबी इज़हबू इला ग़ैरी
मेरे हुज़ूर के लब पर अना लहा होगा

Kahenge Aur Izhaboo Ila Ghairi
Mere Huzoor Ke Lab Par Ana Laha Hoga

 

दुआएं उम्मते बदकार विर्दे लब होगी
ख़ुदा के सामने सज्दे में सर झुका होगा

Dua e Ummate Badqaar Wird e Lab Hogi
Khuda Ke Samne Sajde Me Sar Jhuka Hoga

 

(लिबा के तले सना में ख़ुले रज़ा की ज़बां तुम्हारे लिए
लिबा के तले सना में ख़ुले हमारी ज़बां तुम्हारे लिए)

(Liba Ke Taley Sana Me Khule Raza Ki Zaba.n Tumhare Liye
Liba Ke Taley Sana Me Khule Hamari Ki Zaba.n Tumhare Liye)

 

(ऐ मुनव्वर ग़रीब उस दर के
नाम के ही ग़रीब होते हैं)

(Ae Munawwar Gharib Us Dar Ke Naam Ke Hee Ghareeb Hote Hain)

 

मैं उनके दर का भिकारी हूं फ़ज़्ले मौला से
हसन फ़क़ीर का जन्नत में बिस्तरा होगा

Main Unke Dar Ka Bhikari Hun Fazle Moula Se
Hasan Faqeer Ka Jannat Me Bistra Hoga

 

By sulta