Tay Kar Raha Hai Jo Tu Din Ka Safar Hai Lyrics

 

 

Tay Kar Raha Hai Jo Tu Din Ka Safar Hai
Dil Ko Duniya Ki Ulfat Se Aazad Kar

Mout Ko Yaad Kar ×2

 

Aaj Momin Bhi Duniya Ke Shoukeen Hein
Dil Ke Rangeen Hein Jab Hee Ghamgeen Hein
Aish o Masti Me Khud Ko Na Barbad Kar

Mout Ko Yaad Kar ×2

 

Rab Ke Ahkaam Ko Na Yun Pamaal Kar
Nek Aamal Kar Khud Ko Khush’haal Kar
Aakhirat Ke Mahal Ko Tu Aabad Kar

Maut Ko Yaad Kar ×2

 

Nafsh o Shaitan Se Rawte Tod De
Sab Gunah Chhor De Apna Rukh Mod De
Yun Gunah Ke Tarike Na Ijaad Kar

Maut Ko Yaad Kar ×2

 

Nekiyon Me Zara Sabse Aage Tu Badh
Khoob Quraan Padh Rutbe Jannat Ke Chadh
Khair Ki Baat Hardam Tu Irshad Kar

Maut Ko Yaad Kar ×2

 

Lazzat e Maal O Zar Ko Mitati Hai Jo
Sabko Aati Hai Jo Han Rulati Hai Jo
Uski Khatir Hee Tayyar Afraad Kar

Maut Ko Yaad Kar ×2

 

Chhor Kar Rab Ko Insa.n Pareshan Hai
Dil Bhi Veeran Hai Gham Me Usman Hai
Ghair Ke Samne Kuchh Na Fariyad Kar

Maut Ko Yaad Kar ×2

 

 

मौत को याद कर | तय कर रहा है जो तू Lyrics

 

 

तय कर रहा है जो तू दो दिन का सफ़र है
दिल को दुनिया की उल्फ़त से आज़ाद कर

मौत को याद कर ×2

 

आज मोमिन भी दुनिया के शौकीन हैं
दिल के रंगीन हैं जब ही ग़मगीन हैं
ऐश ओ मस्ती में खुद को न बर्बाद कर

मौत को याद कर ×2

 

रब के आहकाम को न यूं पामाल कर
नेक आ़माल कर खुद को खुशहाल कर
आख़िरत के महल को तू आबाद कर

मौत को याद कर ×2

 

नफ़्श ओ शैतान से रावते तोड़ दे
सब गुनाह छोड़ दे अपना रुख़ मोड़ दे
यूं गुनाह के तरीके ना इजाद कर

मौत़ को याद कर ×2

 

नेकियों में ज़रा सबसे आगे तू बढ़
खूब क़ुरआन पढ़ रुतबे जन्नत के चढ़
ख़ैर की बात हरदम तू इरशाद कर

मौत़ को याद कर ×2

 

लज़्ज़त ए माल ओ ज़र को मिटाती है जो
सबको आती है जो हां रुलाती है जो
उसकी ख़ातिर ही तैयार अफ़राद कर

मौत़ को याद कर ×2

 

छोड़ कर रब को इंसां परेशान है
दिल भी वीरान है ग़म में उस्मान है
ग़ैर के सामने कुछ न फ़रियाद कर

मौत़ को याद कर ×2

By sulta