फूल भी मुस्कुराने लगा है

फूल भी मुस्कुराने लगा है   फूल भी मुस्कुराने लगा है, पत्तियां मुस्कुराने लगी हैं आ गई है बहारें चमन में, तितलियाँ मुस्कुराने लगी हैं उनके क़दमों का ए’जाज़ है ये सूखे थन भर गए बकरियों के पेड़ सूखा हरा हो गया और डालियाँ मुस्कुराने लगी हैं फूल भी मुस्कुराने लगा है, पत्तियां मुस्कुराने लगी हैं …

फूल भी मुस्कुराने लगा है Read More »