Tag: ताजदार ए हरम

ताजदार ए हरम

ताजदार ए हरम ताजदार-ए-हरम लिरिक्स क़िस्मत में मेरी चैन से जीना लिख दे डूबे ना कभी मेरा सफ़ीना लिख दे जन्नत भी गँवारा है मगर मेरे लिए ऐ कातिब-ए-तक़दीर मदीना…