अजमेर मेरी मंजिल बगदाद है ठिकाना Naat Lyrics

अजमेर मेरी मंजिल बगदाद है ठिकाना Naat Lyrics   अजमेर मेरी मंजिल बगदाद है ठिकाना में गुलामे क़ादरी हु मेरे साथ है ज़माना मेरा क्या बिगाड़ लेगा जो खिलाफ है ज़माना मुझे गम नहीं किसी का में हु गौस का दीवाना सूरत है मुस्तफ़ा की सीरत है मुर्तजा की क्या खूब चमकता है हेदर का …

अजमेर मेरी मंजिल बगदाद है ठिकाना Naat Lyrics Read More »