Tadap uthta hai dil lafzon me dohraai nahi jaati Lyrics

 

Tadap uthta hai dil lafzon me dohraai nahin jaati

Zaban par daastan e karbala laai nahin jaati

तड़प उठता है दिल लफ्ज़ों में दोहराई नहीं जाती

ज़बां पर दास्तान ए कर्बला लाई नहीं जाती

 

Hussain ibne ali ke gham me hun duniya se begana

Hujoom e khalq me bhi meri tanhaai nahin jaati

हुसैन इब्ने अली के ग़म में हूं दुनिया से बेगाना

हुजूम ए ख़ल्क़ में भी मेरी तन्हाई नहीं जाती

 

Suna hai karbala ki khaak hai akseer se badh kar

Ye mitti aankh me lene se beenayi nahin jaati

सुना है कर्बला की ख़ाक है अक्सीर से बढ़कर

ये मिट्टी आंख में लेने से, बीनाई नहीं जाती

 

Hussainiyat ko paana hai to takkar le yazeedon se

Ye wo manzil hai jo lafzon me samjhaai nahin jaati

हुसैनियत को पाना है तो टक्कर ले यज़ीदों से

ये वो मन्ज़िल है जो लफ्ज़ों में समझाई नहीं जाती

 

Udaasi chha rahi hai rooh pe shan e ghariban ki

Tabiyat hai ke bahlane se bahlaayi nahin jaati

उदासी छा रही है रुह़ पर शामे ग़रीबां की

तबीयत है के बहलाने से बहलाई नहीं जाती

 

Tamache maar lo khaime jala lo qaid me rakh lo

Ali ke gul rukhon se booye zahraai nahin jaati

तमाचे मार लो ख़ैमें जला लो क़ैद में रख लो

अली के गुल रुखों से बू-ए-ज़ाहराई नहीं जाती

 

Kaha abbas ne afsos baazu kat gaye mere

Saqeena tak ye mashk e aab le jaai nahin jaati

कहा अब्बास ने अफसोस बाज़ू कट गए मेरे

सक़ीना तक ये मश्क-ए-आब ले जाई नहीं जाती

 

Kaha shabbir ne abbas se tum mujhko sahara do

Ke tanha laash e akbar mujhse dafnaai nahin jaati

कहा शब्बीर ने अब्बास, तुम मुझको सहारा दो

कि तन्हा लाश ए अकबर, मुझसे दफ़नाई नहीं जाती

 

Daleeli se ho badhkar kya shaheedon ki taharat par

Ke maiyat dafn ki jaati hai ke nahlaai nahin jaati

दलीली से हो बढ़कर क्या, शहीदों की तहारत पर

के मैय्यत दफ़्न की जाती है, नहलाई नहीं जाती

 

Koi bhi dour ho tu imam e gham thaharta hai

Gham e shabbir teri yaktaai nahin jaati

कोई भी हो तू इमाम ए ग़म ठहरता है

ग़मे शब्बीर तेरी शान-ए-यकताई नहीं जाती

 

Wo jin chehron ko zeenat khasaye khak e najaf bakhshe

Dame aakhir bhi un chehron ki zebaai nahin jaati

वो जिन चेहरों को ज़ीनत खासए-ख़ाके नजफ़ बख़्शें

दमे आखिर भी उन चेहरों की ज़ेबाई नहीं जाती

 

Naseer aakhir adabat ke bhi kuchh aadaab hote hain

Kisi bhi bimaar ko janzeer pahnaai nahin jaati

नसीर आख़िर अदावत के भी कुछ आदाब होते हैं

किसी बीमार को ज़न्जीर पहनाई नहीं जाती

 

By sulta