Sunnaton Par Chalun Aur Chalane Lagun Lyrics

 

Sunnaton Par Chalun Aur Chalane Lagun Lyrics

Vocalist: Abdul Wahid
Lyrics: Bint E Aslam

हिन्दी के लिए यहां टच करें

Sunnaton Par Chalun, Aur Chalane Lagun
Teri Janib Jahan Ko Bulane Lagun

 

Karke Tauba Gunahon Se Mere Khuda
Khwab e Ghaflat Se Sab Ko Jagane Lagun

 

Bhool Kar Daar e Faani Ki Lazzat
Yaad Ukba Ki Sabko Dilane Lagun

 

Ghour Se Dekhne Ke Bajaaye Main Ab
Ghair Marham Se Nazrein Hatane Lagun

 

Syaasi Naaron Se Khud Ko Bachate Huye
Naara e Deen Jag Me Lagane Lagun

 

Dawat e Haq Ko Lekar Jahan Me Firun
Teri Chahat Me Khud Ko Thakane Lagun

 

Tod Kar Baatilon Se Taalluq Mai Ab
Ahle Haq Se Taalluq Banane Laga Hun

 

Binte Aslam Ki Ye Tujhse Fariyaad Hai
Aakhirat Ko Mai Apni Sajane Lagun

 

सुन्नतों पर चलूँ, और चलाने लगूँ

तेरी जानिब जहां को बुलाने लगूं

 

करके तौबा गुनाहों से मेरे ख़ुदा

ख़्वाब ए ग़फ़लत से सब को जगाने लगूं

 

भूल कर दारे फ़ानी की लज़्ज़त सभी

याद उ़क़बा की सबको दिलाने लगूँ

 

ग़ौर से देखने के बजाए मैं अब

ग़ैर महरम से नज़रें हटाने लगूं

 

सयासी नारों से खुद को बचाते हुए

नारा ए दीन जग में लगाने लगूँ

 

दावत ए ह़क़ को लेकर जहां में फिरुं

तेरी चाहत में खुद को थकाने लगूं

 

तोड़ कर बातिलों से ताअल्लुक़ मैं अब

अहले ह़क़ से ताअल्लुक़ बनाने लगूं

 

बिनते असलम की ये तुझ से फ़रियाद है

आख़िरत को मैं अपनी सजाने लगूं

By sulta