Shahe Lau-Laak Ka Sadqa Mera Markaj Bareilly Hai Lyrics

 

शहे लौलाक का सदक़ा मेरा मर्कज़ बरेली है

 

शहे लौलाक का सदक़ा मेरा मर्कज़ बरेली है
Shahe Lau-Laak Ka Sadqa Mera Markaj Bareilly Hai

Naat Khwan: Qaari Tayyab Raza Attari
Shayar: Hafiz Tafseer Raza Amjadi

 

क़ाइद-ए-मोहतरम है वोह फ़ैज़े क़दीर
मेरा अहमद रज़ा ला जवाब बे नज़ीर

Qaaid-e-Mohtaram Hai Woh Faize Qadeer
Mera Ahmad Raza La Jawab Be Nazeer

 

राहत-ए-जान है रुह की ताज़गी
जानिबे तैबा की तो रज़ा है लकीर

Rahat-e-Jaan Hai Rooh Ki Taazgi
Jaanibe Taiba Ki To Raza Hai Lakeer

 

झूम कर कह उठा उनका हर एक गदा
आला हज़रत मेरा रहनुमा मेरा पीर

Jhoom Kar Kah Utha Unka Har Ek Gada
Aala Hazrat Mera Rahnuma Mera Peer

 

शहे लौलाक का सदक़ा मेरा मर्कज़ बरेली है
यक़ीनन फ़ज़्ल है रब का मेरा मर्कज बरेली है

Shahe Lau-Laak Ka Sadqa Mera Markaj Bareilly Hai
Yaqinan Fazal Hai Rab Mera Markaj Bareilly Hai

 

जहाँ में वो भटक सकता नहीं राहे हिदायत से
लगाया जिसने भी नारा मेरा मर्कज बरेली है

Jahan Me Wo Bhatak Sakta Nahin Raahe Hidayat Se
Lagaya Jisne Bhi Nara Mera Markaj Bareilly Hai

 

शहे लौलाक का सदक़ा मेरा मर्कज बरेली है
यक़ीनन फ़ज़्ल है रब का मेरा मर्कज बरेली है

Shahe Lau-Laak Ka Sadqa Mera Markaj Bareilly Hai
Yaqinan Fazal Hai Rab Ka Mera Markaj Bareilly Hai

 

भला मुन्किर से मैं क्यूँ खौंफ़ खाऊंगा ज़माने में
है जब दिल में लिखा कि मेरा मर्कज बरेली है

Bhala Munkir Se Main Kyon Khouf Khaunga Zamane Me
Hai Jab Dil Me Likha ke Mera Markaj Bareilly Me

 

मेरा ईमान पैसों से खरीदा जा नहीं सकता
मेरा ईमान है पक्का मेरा मर्कज बरेली है

Mera Iman Paison Se Kharid Ja Nahin Sakta
Mera Iman Hai Pakka Mera Markaj Bareilly Hai

 

शहे लौलाक का सदक़ा मेरा मर्कज बरेली है
यक़ीनन फ़ज़्ल है रब का मेरा मर्कज बरेली है

Shahe Lau-Laak Ka Sadqa Mera Markaj Bareilly Hai
Yaqinan Fazal Hai Rab Mera Markaj Bareilly Hai

 

क़ाइद-ए-मोहतरम है वोह फ़ैज़े क़दीर
मेरा अहमद रज़ा ला जबाव बे नज़ीर

Qaaid-e-Mohtaram Hai Woh Faize Qadeer
Mera Ahmad Raza La Jabaw Be Nazeer

 

राहत-ए-जान है रुह की ताज़गी
जानिबे तैबा की तो रज़ा है लकीर

Rahat-e-Jaan Hai Rooh Ki Taazgi
Jaanibe Taiba Ki To Raza Hai Lakeer

 

झूम कर कह उठा उनका हर एक गदा
आला हज़रत मेरा रहनुमा मेरा पीर

Jhoom Kar Kah Utha Unka Har Ek Gada
Aala Hazrat Mera Rahnuma Mera Peer

 

मुनाफ़िक़ सामने गर हो तो उसके सामने भी मैं
सुनाऊंगा यही नग़मा मेरा मर्कज बरेली है

Munafiq Samne Gar Ho To Uske Samne Bhi Main
Sunaunga Yahi Naghma Mera Markaj Bareilly Hai

 

मिला है आला हज़रत का लक़ब जिसको उसी के सर
मुजद्दिद का सजा सेहरा मेरा मर्कज बरेली है

Mila Hai Aala Hazrat Ka Laqab Jisko Usi Ke Sar
Mujaddid Ka Saja Sehra Mera Markaj Bareilly Hai

 

शहे लौलाक का सदक़ा मेरा मर्कज बरेली है

यक़ीनन फ़ज़ल है रब का मेरा मर्कज बरेली है

Shahe Lau-Laak Ka Sadqa Mera Markaj Bareilly Hai
Yaqinan Fazal Hai Rab Mera Markaj Bareilly Hai

 

मदीने का पता हमको मिला जिससे जहां वालों
बरेली का है वो आक़ा मेरा मर्कज बरेली है

Madine Ka Pata Hamko Mila Jisse Jahan Walon
Bareilly Ka Hai Wo Aaqa Mera Markaj Bareilly Hai

 

लहद का ख़ौफ़ फिर कैसा अगर उस दम कहा तुमने
ऐ तफ़्सीर-ए-हज़ीं इतना, मेरा मर्कज बरेली है

Lahad Ka Khouf Phir Kaisa Agar Us Dam Kaha Tumne
Ae Tafseer-e-Hajin Itna, Mera Markaj Bareilly Hai

 

शहे लौलाक का सदक़ा मेरा मर्कज बरेली है
यक़ीनन फ़ज़ल है रब का मेरा मर्कज बरेली है

Shahe Lau-Laak Ka Sadqa Mera Markaj Bareilly Hai
Yaqinan Fazal Hai Rab Mera Markaj Bareilly Hai

By sulta