Salle Ala Sultan-e-Arab Lyrics

 

 

Shukre Khuda, Shukre Khuda,
Shukre Khuda, Shukre Khuda

Salle Ala Sultan-e-Arab
Salle Ala Mahboob-e-Khuda

 

Aap Shafi-e-Roz-e-Jaza
Salle Ala Mahboob-e-Khuda

Salle Ala Sultan-e-Arab
Salle Ala Mahboob-e-Khuda

Shukre Khuda, Shukre Khuda,
Shukre Khuda, Shukre Khuda

 

Doulat Se Ruswa-e-Zamana
Qismat Se Manhoos Huye

Aapka Saani Dhoondne Wale
Log Bade Mayoos Huye

Aapka Saya Bhi Na Mila
Salle Ala Mahboob-e-Khuda

Salle Ala Sultan-e-Arab
Salle Ala Mahboob-e-Khuda

 

Aapke Haasid Bughz Se Aajiz
Rutbe Se Mohtaaz Gaye

Farsh-e-Zami Se Mere Nabi
Jab Sarey Meraj Gaye

Ghoonj Rahi Thi Ek Sada
Salle Ala Mahboob-e-Khuda

Salle Ala Sultan-e-Arab
Salle Ala Mahboob-e-Khuda

Shukre Khuda, Shukre Khuda,
Shukre Khuda, Shukre Khuda

 

Jane Nabi, Jane Ali
Janabe Fatima Zahra

Aisi Bulandi Aur Kisi Ke
Haath Kabhi Aayi Hi Nahin

Beti Kisi Ki Zahra Nahin Hai
Aur Ali Sa Bhai Nahin

Jane Ali Aur Rooh-e-Fatima
Salle Ala Mahboob-e-Khuda

Salle Ala Sultan e Arab
Salle Ala Mahboob-e-Khuda

 

Aapke Baagh Ke Do Phoolon Se
Mahak Raha Hai Deen-e-Khuda

Ek Hasan Hai Sabr Sarapa
Husn Ka Paikar Sabz Qaba

Ek Shaheed-e-Karbo-bala
Salle Ala Mahboob-e-Khuda

Salle Ala Sultan e Arab
Salle Ala Mahboob-e-Khuda

Shukre Khuda, Shukre Khuda,
Shukre Khuda, Shukre Khuda

 

Chahen Gulo Gulzar Ho
Ya Ho Shaakh-o-Shajar Ya Arzo-Sama

Shamso Qamar Ho Ya Laal-o-Gouhar
Ho Paani Ya Fir Hawa

Sab Ka Wazifa Hai Wa-Khuda
Salle Ala Mahboob-e-Khuda

Salle Ala Sultan e Arab
Salle Ala Mahboob-e-Khuda

 

Kaasa Kabhi Is Dar Se Koi
Khaali Na Gaya Ye Dhyaan Rahe

Ishq Hameer Is Dar Se Hamesha
Har Dhadkan Ke Douran Rahe

Kah Do Ali Dar Bar-Mala
Salle Ala Mahboob-e-Khuda

Salle Ala Sultan e Arab
Salle Ala Mahboob-e-Khuda

Shukre Khuda, Shukre Khuda,
Shukre Khuda, Shukre Khuda

 

सल्ले अला सुल्तान-ए-अरब | Naat In Hindi Lyrics

 

 

शुक्रे ख़ुदा, शुक्रे ख़ुदा, शुक्रे ख़ुदा,शुक्रे ख़ुदा

सल्ले अ़ला सुल्तान-ए-अरब सल्ले अ़ला महबूब-ए-खुदा

 

आप शफ़ी़-ए-रोज़े जज़ा सल्ले अ़ला महबूब-ए-ख़ुदा
सल्ले अ़ला सुल्तान-ए-अरब सल्ले अला महबूब-ए-ख़ुदा

शुक्रे ख़ुदा, शुक्रे ख़ुदा, शुक्रे ख़ुदा,शुक्रे ख़ुदा

 

दौलत से रुसवा-ए-ज़माना क़िसमत से मनहूस हुए
आपका सानी ढूंढन वाले लोग बड़े मायूस हुए

आपका साया भी न मिला सल्ले अ़ला मह़बूब-ए-ख़ुदा

सल्ले अ़ला सुल्तान-ए-अरब सल्ले अ़ला महबूब-ए-खुदा

 

आपके हासिद बुग़्ज़ से आजिज़ रुतबे से मोहताज गए
फ़र्शे ज़मीं से मेरे नबी जब सरे मेराज गए
गूंज रही थी एक सदा सल्ले अ़ला मह़बूब-ए-ख़ुदा

सल्ले अ़ला सुल्तान-ए-अरब सल्ले अ़ला महबूब-ए-खुदा

शुक्रे ख़ुदा, शुक्रे ख़ुदा, शुक्रे ख़ुदा,शुक्रे ख़ुदा

 

जाने नबी, जाने अली जनाबे फ़ातिमा ज़हरा
ऐसी बुलन्दी और किसी के हाथ कभी आई ही नहीं

बेटी किसी की ज़हरा नहीं है और अली सा भाई नहीं
जाने अली और रूह-ए-फ़ातिमा सल्ले अ़ला मह़बूब-ए-ख़ुदा

सल्ले अ़ला सुल्तान-ए-अरब सल्ले अला महबूब-ए-खुदा

 

आपके बाग़ के दो फूलों से महक रहा है दीन-ए-ख़ुदा
एक हसन है सब्र सरापा हुस्न का पैकर सब्ज़ क़बा
एक शहीद-ए-करबो-बला सल्ले अला महबूब-ए-खुदा

सल्ले अ़ला सुल्तान-ए-अरब सल्ले अला महबूब-ए-खुदा

शुक्रे ख़ुदा, शुक्रे ख़ुदा, शुक्रे ख़ुदा,शुक्रे ख़ुदा

 

चाहें गुलो गुलजार हो या हो शाख़-ओ-शजर या अर्ज़ो समां
शम्सो क़मर हो या लाल-ओ-गोहर हो पानी या फिर हवा

सब का वज़ीफ़ा है वा-ख़ुदा सल्ले अला महबूब-ए-खुदा

सल्ले अ़ला सुल्तान-ए-अरब सल्ले अला महबूब-ए-खुदा

 

कासा कभी इस दर से कोई खाली न गया ये ध्यान रहे
इ़श्क़ हमीर इस दर से हमेशा हर धड़कन के दौरान रहे
कह दो अली दर बर-मला सल्ले अला महबूब-ए-खुदा

सल्ले अ़ला सुल्तान-ए-अरब सल्ले अला महबूब-ए-खुदा

शुक्रे ख़ुदा, शुक्रे ख़ुदा, शुक्रे ख़ुदा,शुक्रे ख़ुदा

By sulta