Sadqe me mustafa ke barabar mila mujhe lyrics

 

सदक़े में मुस्तफ़ा के बराबर मिला मुझे
मांगा था सिर्फ़ क़तरा समन्दर मिला मुझे

Sadqe me mustafa ke barabar mila mujhe
Maanga tha sirf qatra samandar mila mujhe

 

सोया हुआ था तैबा की मैं गर्म रेत पर
फिर भी लगा कि फूलों का बिस्तर मिला मुझे

Soya hua tha taiba ki main garm ret par
Phir bhi laga ki phoolon ka bistar mila mujhe

 

दोजख़ को हर त़रह का गुनाहगार चाहिए
जन्नत को मुस्तफ़ा का वफ़ादार चाहिए

Dozakh ko har tarah ka gunahgar chahiye
Jannat ko mustafa ka wafadar chahiye

 

रिज़वां तेरी बहिश्त को देखेंगे बाद में
पहले मेरे रसूल का दीदार चाहिए

Rizwa.n teri bahisht ko dekhenge baad me
Pahle mere rasool ka deedar chahiye

 

By sulta