Rahmat-o-noor ki barsat shabe barat ki raat lyrics

 

 

Rahmat-o-noor ki barsat shabe barat ki raat
Mahke mahke sabhi baghaat shabe barat ki raat

 

रहमत-ओ-नूर की बरसात शबे बरात की रात
महके-महके सभी बाग़ात शबे बरात की रात

 

Ho na mayoos ke tu bhi muraden apni
Maang le rab se utha haath shabe barat ki raat

 

हो ना मायूस के तू भी मुरादें अपनी
मांग ले रब से उठा हाथ शबे बरात की रात

 

Apne mahboob ke dar ka utar kar sadqa
Rab lutata hai ina’maat shabe barat ki raat

 

अपने महबूब के दर का उतार कर सदक़ा
रब लुटाता है इनामात शबे बरात की रात

 

Aasiyon aao chalen rab ke karam me ham sab
Rab bulata hai hamen aaj shabe barat ki raat

 

आसियों आओ चलें रब के करम में हम सब
रब बुलाता है हमें आज शबे बरात की रात

 

Rab ka wada hai jo chaho maang lo Ahil
Maango taiba me ho wafaat shabe barat ki raat

 

रब का वादा है ! जो चाहो मांग लो आहिल
मांगो तैबा में हो वफ़ात शबे बरात की रात

By sulta