Rahe Khuda Dikha Ke Ramzan Jaa Raha Hai Naat Lyrics

राहे ख़ुदा दिखा के रमज़ान जा रहा है

 

Rahe Khuda Dikha Ke Ramzan Jaa Raha Hai

Bandon Ko Bakhshwa Ke Ramzan Jaa Raha Hai

 

Keena, Gila, Adawat, Zulm o Sitam, Baghawat

Har Qalb Se Mita Ke Ramzan Jaa Raha Hai

 

Aaya Tha Jab Ye Dil Ko Us Dam Khushi Mili Thi

Afsos Ab Rula Ke Ramzan Jaa Raha Hai

 

Tum Mere Baad Me Mat Masjid Ko Chhor Dena

Har ek Ko Bata Ke Ramzan Jaa Raha Hai

 

Rahmat Ki Barishon Ko Laaya Tha Saath Apne

Sab Ham Pe Ab Luta Ke Ramzan Jaa Raha Hai

 

Roza, Namaz, Sadqa, Khairaat Aur Fitra

In Sabse Aazma Ke Ramzan Jaa Raha Hai

 

Rahmat Ka Aur Barakat, Aur Saath Maghfirat

Muzda Hamen Suna Ke Ramzan Jaa Raha Hai

 

Ahle Shaoor Har Ik Ye Bolta Hai Mahru

Taqdeer Ko Bana Ke Ramzan Jaa Raha Hai

 

Naat Khwan: Tabish Rehan

Rahe Khuda Dikha Ke Nazam Lyrics
राहे ख़ुदा दिखा के रमज़ान जा रहा है

बन्दों को बख़्शवा के रमज़ान जा रहा है

 

कीना, गिला, अदावत, ज़ुल्मो-सितम, बग़ावत

हर क़ल्ब उसे मिटा के रमज़ान जा रहा है

 

आया था जब ये दिल को उस दम खुशी मिली थी

अफ़सोस अब रुला के रमज़ान जा रहा है

 

तुम मेरे बाद में मत मस्जिद को छोड़ देना

हर एक को बता के रमज़ान जा रहा है

 

रह़मत की बारिशों को लाया था साथ अपने

सब हम पे अब लुटा के रमज़न जा रहा है

 

रोज़ा नमाज़ सदक़ा ख़ैरात और फ़ितरा

इन सब से आज़मा के रमज़ान जा रहा है

 

रह़मत का और बरकत, और साथ मग़फ़िरत का

मुज़दा हमें सुना के रमज़ान जा रहा है

 

अहले शऊर हर इक ये बोलता है मैहरू

तक़दीर को बना के रमज़ान जा रहा है

By sulta