Noor e Khuda Hai Husn e Saraapa Rasool Ka Lyric

 

 

bemisl hai, kya shaukat e raanaayi hai!

khaaliq bhi fida khalq bhi shaidaayi hai
khaaliq ne mohabbat ke niraale rukh se
sarkar ke chehre ki qasam khaayi hai

 

Noor-e Khuda Hai Husn-e Saraapa Rasool Ka
Noor-e Khuda Hai Husn-e Saraapa Rasool Ka

 

sar se paa tak noor
unka sab gharaana noor ka
unki nasl e paak mein hai
bachcha bachcha noor ka

Noor-e Khuda Hai Husn-e Saraapa Rasool Ka ..

 

dono jahaañ ka noor Muhammad ﷺ ke roop meiñ
Allah ka zahoor Muhammad ﷺ ke roop mein

Noor-e Khuda Hai Husn-e Saraapa Rasool Ka ..

 

lab noor jabeen noor
dahan noor nazar noor

Noor-e Khuda Hai Husn-e Saraapa Rasool Ka ..

 

gesu ki chamak noor
amaame ki damak noor
hai khaak ka ghar khaak
magar noor ka ghar noor

 

Noor-e Khuda Hai Husn-e Saraapa Rasool Ka
Khud Hi Khuda e Paak Hai Shaida Rasool Ka

 

Allah ne paas bula hi liya
bin dekhe khuda bhi rah na saka

Khud Hi Khuda e Paak Hai Shaida Rasool Ka ..

 

takhleeq karke aapko allah ne kaha
mera habib meri tarah lajawaab hai

Khud Hi Khuda e Paak Hai Shaida Rasool Ka ..

 

Yeh Aasmaañ Yeh Chaañd Sitaare Unhi Se Haiñ
Jitne Haiñ Dilnasheen Nazaare Unhi Se Haiñ

Teesoñ Kalaam e Paak Ke Paare Unhi Se Hain
Takhleeq e Kayanaat Hai Sadqa Rasool Ka

 

Jab Kuch Nahi Tha Sirf Khuda Hi Ki Zaat Thi
Is Din Ka Tha Wajood Na Maujood Raat Thi

Jeene Ka Tazkara Tha Marne Ki Baat Thi
Us Waqt Bhi Tha Noor-e Mujalla Rasool Ka

 

Hazrat Umar Ki Dekhiye Taqdeer Yuñ Bani
Nikle The Qatl Karne Ki Neeyat Se Jis Ghadi

Talwaar Chhut Ke Haathoñ Se Qadmoñ Mein Gir Padi
Dekha Unhoñ Ne Jab Rukhe Zeiba Rasool Ka

 

Aati Hai Jab Yeh Baat Hamaare Khayaal Mein
Milta Nahi Hai Waaqaya Koi Misaal Mein

Kya Mo’ajiza Hua Tha Ke Teyees Saal Mein
Saare Jahaañ Ne Padh Liya Kalma Rasool Ka

 

Pal Bhar Mein Jaise Wo Bhi Koi Mo’ajiza Hua
Hairat Se Aasmaan Use Dekhta Raha

Saara Gharoor Qila’a-e Khaibar Ka Mit Gaya
Jab Murtaza Ko Mil Gaya Jhanda Rasool Ka

 

Aisi Misaal De Na Sakegi Yeh Kaayenaat
Jaañ Di Diya Na Dast Yazeedi Mein Apna Haath

Khud Bhi Hua Shaheed Bahattar Ke Saath Saath
Kitna Azeem Tha Wo Nawaasa Rasool Ka

 

sar daad na daad dast dar dast e yazeed
haqqa ke bina e la ilaah ast Hussain

Kitna Azeem Tha Wo Nawaasa Rasool Ka ..

 

Noore Khuda Hai Husn-e Saraapa Rasool Ka

 

 

 

बेमिस्ल है क्या शौकत ए रानाई है
ख़ालिक़ भी फ़िदा ख़ल्क भी शैदाई है
ख़ालिक़ ने मोहब्बत के निराले रुख़ से
सरकार ﷺ के चेहरे की क़सम खाई है

नूरे ख़ुदा है हुस्न ए सरापा रसूलﷺ का
नूर ए ख़ुदा है हुस्न ए सरापा रसूल ﷺ का

 

सर से पा तक नूर उनका सब घराना नूर का
उनकी नस्ले पाक में है बच्चा बच्चा नूर का

नूर ए ख़ुदा है हुस्न ए सरापा रसूल ﷺ का ..

 

दोनों जहां का नूर मोहम्मद ﷺ के रूप में
अल्लाह का ज़हूर मोहम्मद ﷺ के रूप में

नूर ए ख़ुदा है हुस्न ए सरापा रसूल ﷺ का ..

 

लब नूर जबीं नूर
दहन नूर नज़र नूर

नूर ए ख़ुदा है हुस्न ए सरापा रसूल ﷺ का ..

 

गेसू की चमक नूर अ़मामे की दमक नूर
है ख़ाक़ का घर ख़ाक़ मगर नूर का घर नूर

नूरे खुदा है हुस्ने सरापा रसूल ﷺ का ..

 

नूर ए ख़ुदा है हुस्न ए सरापा रसूल ﷺ का
ख़ुद ही ख़ुदा ए पाक है शैदा रसूल ﷺ का

 

अल्लाह ने पास बुला ही लिया
बिन देखे ख़ुदा भी रह ना सका

ख़ुद ही ख़ुदा ए पाक है शैदा रसूल ﷺ का ..

 

तख़लीक़ करके आप ﷺ को अल्लाह ने कहा
मेरा हबीब मेरी तरह ला जवाब है

ख़ुद ही ख़ुदा ए पाक है शैदा रसूल ﷺ का ..

 

ये आसमां ये चांद सितारे उन्हीं से हैं
जितने हैं दिलनशीन नज़ारे उन्हीं से हैं

तीसो कलाम ए पाक के पारे उन्हीं से हैं
तख़लीक़ ए कायनात है सदक़ा रसूल ﷺ का

 

जब कुछ नहीं था सिर्फ ख़ुदा ही की ज़ात थी
इस दिन का था वजूद न मौजूद रात थी

जीने का तज़करा था न मरने की बात थी
उस वक्त भी था नूरे मुजल्ला रसूल ﷺ का

 

हज़रत उमर की देखिए तक़दीर यूं बनी
निकले थे क़त्ल करने की नीयत से जिस घड़ी

तलवार छुट के हाथों से कदमों में गिर पड़ी
देखा उन्होंने जब रूख़ ए ज़ेबा रसूल ﷺ का

 

आती है जब यह बात हमारे ख़याल में
मिलता नहीं है वाक़या कोई मिसाल में

क्या मोअ़जिज़ा हुआ था के तेईस साल में
सारे जहां ने पढ़ लिया कलमा रसूल ﷺ का

 

पल भर में जैसे वोह भी कोई मोअ़्जिज़ा हुआ
हैरत से आसमान उसे देखता रहा

सारा ग़ुरूर क़िलअ़ ए ख़ैबर का मिट गया
जब मुर्तज़ा को मिल गया झंडा रसूल ﷺ का

 

ऐसी मिसाल दे न सकेगी ये कायनात
जां दी दिया न दस्ते यजीदी में अपना हाथ

ख़ुद भी हुआ शहीद बहत्तर के साथ-साथ
कितना अज़ीम था वो नवासा रसूल ﷺ का

 

सर दाद न दाद दस्त दर दस्ते यज़ीद
हक़्का़ के बिना ए ला-इलाह अस्त हुसैन

कितना अज़ीम था वो नवासा रसूल ﷺ का ..

नूरे खुदा है हुस्ने सरापा रसूल का ..
नूरे खुदा है हुस्ने सरापा रसूल का

By sulta