Nihaan Pardon Me Hai Lyrics

 

 

Nihan Pardon Me Hai Jalwon Ki Tabaani Nahin Jaati
Wo Hasti Khud Ko Manbaati To Hai Jaani Nahin Jaati

 

Ye Maikhana Hai Isme Hamse Deewanon Ki Chalti Hai
Yahan Aql o Khirad Ki Sarwari Maani Nahi Jati

 

Nihan Pardon Me Hai Jalwon Ki Tabaani Nahin Jaati
Wo Hasti Khud Ko Manbaati To Hai Jaani Nahin Jaati

 

Rahe Ulfat Me Aksar Marhale Aise Bhi Aate Hein
Paon Ruk Ke Thak Jaate Hein Joulani Nahi Jaati

 

Nihan Pardon Me Hai Jalwon Ki Tabaani Nahin Jaati
Wo Hasti Khud Ko Manbaati To Hai Jaani Nahin Jaati

 

Kamandein Daal Rakkhi Hein Meri Himmat Ne Taron Par
Magar Ab Tak Dil E Nada.n Ki Nadani Nahin Jaati

 

Nihan Pardon Me Hai Jalwon Ki Tabaani Nahin Jaati
Wo Hasti Khud Ko Manbaati To Hai Jaani Nahin Jaati

 

Har Ik Sooraj Nikalta Hai Niraali Rounqein Lekar
Magar Fir Bhi Dil e Wiran Ki Wirani Nahin Jaati

 

Nihan Pardon Me Hai Jalwon Ki Tabaani Nahin Jaati
Wo Hasti Khud Ko Manbaati To Hai Jaani Nahin Jaati

 

Jabin e Shouq Ko Ya Rab Bas Apna Aasta.n De De
Ke Mujhse Dar-Badar Ki Khaaq Ab Chhani Nahi Jaati

 

Nihan Pardon Me Hai Jalwon Ki Tabaani Nahin Jaati
Wo Hasti Khud Ko Manbaati To Hai Jaani Nahin Jaati

 

Ye Ilm-o-Aa’gahi Aasi Kahan Le Aaye Hein Mujhko
Ke Mujhse Khud Apni Shakl Pahchani Nahin Jaati

 

Nihan Pardon Me Hai Jalwon Ki Tabaani Nahin Jaati
Wo Hasti Khud Ko Manbaati To Hai Jaani Nahin Jaati

 

 

निहां पर्दों में है जल्वों की ताबानी नहीं जाती
वो हस्ती खुद को मनबाती तो जानी नहीं जाती

 

ये मयखाना है इसमे हम से दीवानों की चलती है
यहां अक़्ल-ओ-ख़िरद की सरवरी मानी नहीं जाती

 

निहां पर्दों में है जल्वों की ताबानी नहीं जाती
वो हस्ती खुद को मनबाती तो जानी नहीं जाती

 

रहे उलफ़त में अक्सर मरहले ऐसे भी आते हैं
पाओं रुक के थक जाते हैं जौलानी नहीं जाती

 

निहां पर्दों में है जल्वों की ताबानी नहीं जाती
वो हस्ती खुद को मनबाती तो जानी नहीं जाती

 

कमन्दें डाल रक्खी हैं मेरी हिम्मत ने तारों पर
मगर अब तक दिले नादां की नादानी नहीं जाती

 

निहां पर्दों में है जल्वों की ताबानी नहीं जाती
वो हस्ती खुद को मनबाती तो जानी नहीं जाती

 

हर इक सूरज निकलता है निराली रौनक़ें लेकर
मगर फिर भी दिले वीरां की वीरानी नहीं जाती

 

निहां पर्दों में है जल्वों की ताबानी नहीं जाती
वो हस्ती खुद को मनबाती तो जानी नहीं जाती

 

जबीं ए शौक़ को या रब बस अपना आस्तां दे दे
के मुझसे दर बदर की ख़ाक़ अब छानी नहीं जाती

 

निहां पर्दों में है जल्वों की ताबानी नहीं जाती
वो हस्ती खुद को मनबाती तो जानी नहीं जाती

 

ये इ़ल्म-ओ-आ’गही आसी कहाँ ले आये हैं मुझको
के मुझसे खुद अपनी शक्ल पहचानी नहीं जाती

 

निहां पर्दों में है जल्वों की ताबानी नहीं जाती
वो हस्ती खुद को मनबाती तो जानी नहीं जाती

By sulta