Naqsha Hai La Jawab Naat Lyrics

 

 

Naqsha Hai La Jawab Naat Lyrics

तज़ईन लाजवाब है नक़्शा है लाजवाब

 

Taz’iin Lajawab Hai, Naqsha Hai La Jawab

Roo-E-Zami Pe Ghumbad-E-Khazra Hai Lajawab

 

Kahne Lage Ye Bulbule Sidra Bhi Choom Kar

Allah Ke Habib Ka Talwa Hai Lajawab

 

Landon, America Se Na Paris Na Cheen Se

Aaye Jo Shahre Taiba Se Visa Hai Lajawab

 

Jis Ki Mahak Se Bagh-E-Do Alam Hai Mushkbar

Wallah Mustafa Ka Paseena Hai Lajawab

 

Kahte The Dekh Kar Ye Sahaba Hussain Ko

Pyare Nabi Ka Pyara Nawasa Hai Lajawab

 

Teeron Ki Barishon Me Ada Kar Gaye Hussain

Is Waste Hussain Ka Sajda Hai Lajawab

 

Kah Dunga Main Ye Qabr Me Munkar-Nakeer Se

Haathon Me Mere Ghaus Ka Shajra Hai Lajawab

 

Sadiyon Se Jiski Ab Bhi Hukoomat Dilon Pe Hai

Wo Sar Zamin-E-Hind Ka Khwaja Hai Lajawab

 

Arbaab-E-Ilm O Fan Ne Kiya jIska Aitraaf

Ahmad Raza Ka Wakaii Fatwa Hai Lajawab

 

Khoon-E-Jigar Pilaati Hai Bachchon Ko Har Ghari

Sach Hai Har Ek Maa Ka Kaleja Hai Lajawab

 

Khaki Har Ahle Ishq Ki Tahqeeq Hai Yehi

Saare Jahan Me Shahre Madina Hai Lajawab

 

Naat Khwan: Zakir Ismaili

Naqsha Hai La Jawab Naat Lyrics Hindi
तज़ईन लाजवाब है नक़्शा है लाजवाब

रुए ज़मीं पे गुम्बदे खज़रा है लाजवाब

 

कहने लगे ये बुलबुले सिदरा भी चूम कर

अल्लाह के ह़बीब का तलवा है लाजवाब

 

लंदन, अमेरिका से ना पैरिस, ना चीन से

आए जो शहर-ए-तैयबा से वीज़ा है लाजवाब

 

जिस की महक से बाग़-ए-दो आलम है मुश्कबार

वल्लाह मुस्तफ़ा का पसीना है लाजवाब

 

कहते थे देखकर ये सहाबा हुसैन को

प्यारे नबी का प्यारा, नवासा है लाजवाब

 

तीरों की बारिशों में अदा कर गए हुसैन

इस वास्ते हुसैन का, सजदा है लाजवाब

 

कह दूंगा मैं ये क़ब्र में मुनकर-नकीर से

हाथों में मेरे ग़ौस का शजरा है लाजवाब

 

सदियों से जिसकी अब भी हुकूमत दिलों पे है

वो सर ज़मीन-ए-हिन्द का ख्वाजा है लाजवाब

 

अरबाब-ए-इ़ल्म ओ फ़न ने किया जिसका एतराफ़

अहमद रज़ा का वाक़ई फ़तवा है लाजवाब

 

खून-ए-जिगर पिलाती है बच्चों को हर घड़ी

सच है हर एक मां का कलेजा है लाजवाब

 

खाकी हर अहले इश्क़ की तहक़ीक़ है यही

सारे जहां में शहरे मदीना है लाजवाब

By sulta