Nabi Syed ul Anbiya Ke Barabar Lyrics

 

 

Nabi Syed ul Anbiya Ke Barabar Lyrics | Na Pehle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga Lyrics

Nusrat Fateh Ali Khan Qawwali Lyrics

ना पहले था कोई ना अब है ना होगा हिंदी लिरिक्स
kul ambiya se afzal aali maqaam hain woh
allah bhejta hai jispar salaam hain woh
aqsa meiñ ki imaamat saare payambaroñ ki
saare payambaron ke beshak imaam hain woh

 

Nabi Syed ul Anbiya Ke Barabar

Nabi Syed ul Ambiya Ke Barabar
Na Pehle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga

 

Nabi Sayyed ul Ambiya Ke Barabar
Na Pehle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga

Muhammad Ka Saani Muhammad Ka Hamsar
Na Pehle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga

 

Unsa Na Pahle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga
Unsa Na Pahle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga

 

rasool aur bhi aaye jahaan par lekin,

Unsa Na Pahle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga
Na Pehle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga

 

taaha o yaseen muzammil
markaz e kul aur husn e mukammil

Na Pahle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga
Na Pehle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga

 

noor e mubeeñ hain
haq ke qareeñ hain
farsh makeeñ haiñ
arsh nasheeñ hain

Unsa, Na Pahle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga
Na Pehle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga

 

noor e munawwar awwal o aakhir
roshan roshan baatin zaahir

Unsa Pahle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga
Na Pehle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga

 

rasool e mujtaba kahiye
muhammad mustafa kahiye
khuda ke baad bas woh hain
phir iske baad kya kahiye

Na Unsa Pahle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga
Na Pehle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga

 

Muhammad Ka Saani Muhammad Ka Hamsar
Na Pehle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga

 

Agar Hai Toh Ik Zaat Allah Ki Hai
Jo Zaat e Muhammad Se A’ala Hai Warna

Muhammad Se Aala Muhammad Se Badh Kar
Na Pehlay Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga

 

Jise Haq Ne Bulwaaya Arsh e Ula Par
Hua Fazl e Haq Se Jo Mehmaan e Daawar

Khuda Ki Khudaayi Mein Aisa Payambar
Na Pehle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga

 

Zulaikha Theeñ Jis Pe Fida Jaan o Dil Se
Wo Yusuf Bahut Khoobsurat the, Lekin

Rukhe Mustafa Se Haseeñ Roo e Anwar
Na Pehlay Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga

 

Nabi Sare Mahboob Hain Kibriya Ke
Magar Ye Bhi Sach Hai Bajuz Mustafa Ke

Habib e Khuda Dono Aalam Ka Dilbar
Na Pahlay Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga

 

Badaayi Me Purnam Wo Baad Az Khuda Hain
Shahe Ambiya Hain Shahe Dosara Hain

Bashar Unke Rutbe Ka, Allah Ho Akbar !
Na Pahle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga

 

Unsa, Na Pahle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga
———–

The Rutbe Me Pahle Par Aakhir Me Aaye
Bashar Unke Rutbe Pe Qurban Jaye
Muhammad Sa Afzal Muhammad Sa Aakhir
Na Pahlay Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga

 

नबी सैयद उल अंबिया के बराबर लिरिक्स

 

नबी सैयद उल अंबिया के बराबर लिरिक्स इन हिंदी | Nabi Syed ul Anbiya Ke Barabar Lyrics in Hindi | Na Pehle Tha Koi Na Ab Hai Na Hoga Lyrics in Hindi |

Nusrat Fateh Ali Khan Qawwali Lyrics

Na Pahle Tha Koi Na Ab Hai Lyrics in English
कुल अंबिया से अफ़ज़ल आ़ली मक़ाम हैं वोह
अल्लाह भेजता है जिस पर सलाम हैं वोह
अक़्सा में की इमामत सारे पयंबरों की
सारे पयंबरों के बेशक इमाम है वोह

 

नबी सैयद उल अंबिया के बराबर
नबी सैयद उल अंबिया के बराबर
ना पहले था कोई न अब है न होगा

मुह़म्मद का सानी मुह़म्मद का हमसर
ना पहले था कोई न अब है न होगा

 

उनसा, ना पहले था कोई न अब है न होगा
उनसा, ना पहले था कोई न अब है न होगा

 

रसूल और भी आए जहान में, लेकिन

उनसा, न पहले था कोई न अब है न होगा
ना पहले था कोई न अब है न होगा

 

ताहा ओ यासीन, मुज़म्मिल
मर्कज़ ए कुल और हुस्न ए मुकम्मिल

न पहले था कोई न अब है न होगा
ना पहले था कोई न अब है न होगा

 

नूर ए मुबीं, हक़ के क़रीं
फ़र्श मकीं, अ़र्श नशीं

उनसा, न पहले था कोई न अब है न होगा
ना पहले था कोई न अब है न होगा

 

नूर ए मुनव्वर अव्वल ओ आख़िर
रौशन रौशन बातिन ज़ाहिर

उनसा, न पहले था कोई न अब है न होगा
ना पहले था कोई न अब है न होगा

 

रसूल ए मुज्तबा कहिए
मोहम्मद मुस्तफा कहिए
ख़ुदा के बाद बस वोह हैं
फिर इसके बाद क्या कहिए

ना उनसा, पहले था कोई न अब है न होगा
ना पहले था कोई न अब है न होगा

 

मुह़म्मद का सानी मुह़म्मद का हमसर
ना पहले था कोई ना अब है ना होगा

 

अगर है तो इक ज़ात अल्लाह की है
जो ज़ात-ए-मुह़म्मद से आला है वरना

मुह़म्मद से आला मुह़म्मद से बढ़कर
ना पहले था कोई ना अब है ना होगा

 

जिसे हक़ ने बुलवाया अर्श-ए-उ़ला पर
हुआ फ़ज़्ल-ए-हक से जो मेहमान ए दावर

ख़ुदा की ख़ुदाई में ऐसा पयंबर
ना पहले था कोई ना अब है ना होगा

 

ज़ुलैख़ा थीं जिस पर फ़िदा जान ओ दिल से
वो युसुफ़ बहुत ख़ूबसूरत थे लेकिन

रुखे मुस्त़फ़ा से हसीं रु-ए-अनवर
ना पहले था कोई न अब है न होगा

 

नबी सारे महबूब हैं किबरिया के
मगर ये भी सच है बजुज़ मुस्त़फ़ा के

हबीब-ए-ख़ुदा दोनों आ़लम का दिलबर
ना पहले था कोई न अब है न होगा

 

बड़ाई में पुरनम वो बाद अज़ ख़ुदा हैं
शहे अम्बिया हैं शहे दोसरा हैं

बशर उनके रुत़बे का, अल्लाह हो अकबर!
ना पहले था कोई न अब है न होगा

उनसा, न पहले था कोई न अब है न होगा..
———–

थे रुत़बे में पहले पर आख़िर में आए
बशर उनके रुत़बे पे क़ुर्बान जाए

मुह़म्मद सा अफ़ज़ल मुह़म्मद सा आख़िर
ना पहले था कोई न अब है न होगा

By sulta