Naat Lyrics Hindi

आख़री उम्र में क्या रौनके-दुनियां देखूं

मरने की है तमन्ना ना जीने की आरजू

एक ख़्वाब सुणावां पुरनूर फ़िज़ावां

तुझे रब ने क्या बनाया मक्का-मदीने वाले

फूल भी मुस्कुराने लगा है

या नबी नज़रे करम फरमाना

बुलालो फिर मुझे ऐ शाहे-बहरोबर मदीने में

अजब रंग पर है बहारे मदीना

क़िस्मत मेरी चमकाईये

क़ादरी आस्ताना सलामत रहे

चमक तुझ से पाते हैं सब पाने वाले

छोड़ फ़िक्र दुनियां की

ज़माने की निग़ाहों में वो रुस्वा हो नहीं सकता

ज़िक्रे-आक़ा से सीना सजा है

हाल-ए-दिल किस को सुनाएं

ज़र्रे झड़ कर तेरी पैज़ारों के

तेरा वस्फ़ बयां हो किससे

ताजदारे-ह़रम ऐ शहन्शाहे-दीं

हाज़िर हैं तेरे दरबार में हम

नज़र से जाम पिलाना हुजूर जानते है

भर दो झोली या ख़्वाजा

जिंदगी का हासिल है आरजू मदीने की

कभी उन का नाम लेना कभी उन की बात करना

वारी जाऊँ सदक़े जाऊँ मुर्शिदी अत्तार पर

चलो दियारे-नबी की जानिब दुरूद लब पर सजा सजा कर

अली नूं याद करो

बे तलब भीक यहाँ मिलती है आते जाते

गली गली सज गई शहर शहर सज गया

मरहबा मरहबा मरहबा मुस्तफ़ा

बातिल ने जब जब बदले हैं तेवर

वोह सूए लालाज़ार फिरते हैं

इस करम का करूँ शुक्र कैसे अदा Lyrics

अली अली अली मौला Naat Lyrics

टुकड़े किये क़मर के तो सुरज फिरा दिया Lyrics

हबीब प्यारा नज़र उठाए Naat Lyrics

सर से लेकर क़दम तक है वो मोजज़ा Lyrics

दुरूद पड़ते हुवे जब भी इब्तिदा की है Lyrics

अजमेर चल के देखो रुत्बा अली के घर का Lyrics

ज़माने में अगर देखी तो शाने-क़ादरी देखी Lyrics

अजमेर मेरी मंजिल बगदाद है ठिकाना Naat Lyrics