Mujhpe Bhi Chashme Karam Lyrics

 

Ya Rasoolallah, Ya Habiballah

Karam Karam Ya Nabi Nabi
Karam Karam Ya Nabi Nabi

 

Mujhpe Bhi Chashme Karam Ae Mere Aaqa Karna
Haq To Mera Bhi Hai Rahmat Ka Takaza Karna

 

Tu Kisi Ko Bhi Uthata Nahin Apne Dar Se
Ke Teri Shaan Ke Shaya Nahi Aisa Karna

 

Main Ke Zarra Hun Mujhe Wus’Ate Sahda De De
Ke Tere Bas Mai Hai Qatre Ko Bhi Dariya Karna

 

Ye Tera Kaam Hai Ae Aamina Ke Durre Yateem
Saari Ummat Ki Shafat Tane Tanha Karna

 

Mujhpe Mahshar Me Naseer Unki Nazar Pad Hee Gayi
Kahne Wale Ise Kahte Hain Khuda Ka Karna

 

Mujhpe Bhi Chashme Karam

मुझ पे भी चश्मे करम ऐ मेरे आक़ा करना

हक़ तो मेरा भी है रहमत का तकाज़ा करना

 

तू किसी को भी उठाता नहीं अपने दर से

के तेरी शान के शाया नहीं ऐसा करना

 

मैं के ज़र्रा हूं मुझे वुसअते शहदा दे दे

कि तेरे बस में है क़तरे को भी दरिया करना

 

ये तेरा काम है ऐ आमना के दुर्रे यतीम

सारी उम्मत की शफ़ाअत तने तन्हा करना

 

मुझ पे मह़शर में नसीर उनकी नज़र पड़ ही गई

कहने वाले इसे कहते हैं ख़ुदा का करना

 

Ghulam mustafa qadri naat,

Mujh pe bhi chashm e karam lyrics hindi

 

 

By sulta