Mujh Ko Darpesh Hai Fir Mubarak Safar Naat Lyrics

Shayar: Muhammad Ilyas Attari || Naat e Paak

Naat Khwan: Owais Raza Qadri, Asif Attari, Mushtaq Ahmad Attari, Muhammad Fasihuddin Soharwardi, Mahmood Attari.

 

मुझ को दरपेश है फिर मुबारक सफ़र
क़ाफ़िला अब मदीने का तैयार है
नेकियों का नहीं कोई तोशा फ़क़त
मेरी झोली में अश्क़ों का इक हार है
Mujh Ko Darpesh Hai Fir Mubarak Safar

Qafila Ab Madine Ka Taiyar Hai

Nekiyon Ka Nahi Koi Tosha Faqat

Meri Jholi Me Ashqon Ka Ik Har Hai

 

कुछ न सज्दों की सौग़ात है और न कुछ
ज़ोह्दो तक़्वा मेरे पास सरकार है
चल पड़ा हूँ मदीने की जानिब मगर
हाए ! सर पर गुनाहों का अम्बार है
Kuchh Na Sajdon Ki Soughat Hai Aur Na Kuchh

Zohdo Taqwa Mere Paas Sarkar Hai

Chal Pada Hoon Madine Ki Jaanib Magar

Haye ! Sar Par Gunahon Ka Ambaar Hai

 

जुर्मो इस्यां पे अपने लजाता हुआ
और अश्के नदामत बहाता हुआ
तेरी रहमत पे नज़रें जमाता हुआ
दर पे हाज़िर ये तेरा गुनहगार है
Jurmo Isyan Pe Apne Lajata Hua

Aur Ashke Nadamat Bahata Hua

Teri Rahmat Pe Nazren Jamata Hua

Dar Pe Haazir Ye Tera Gunahgaar Hai

 

तेरा सानी कहां ! शाहे कौनो मकां
मुझ सा आसी भी उम्मत में होगा कहां !
तेरे अफ़्वो करम का शहे दो-जहां !
क्या कोई मुझ से बढ़ कर भी हक़दार है ?
Tera Saani Kahan ! Shahe Kouno Makan

Mujh Sa Aasi Bhi Ummat Me Hoga Kahan !

Tere Afwo Karam Ka Shahe Do Jahan !

Kya Koi Mujh Se Bad Kar Bhi Haqdaar Hai

 

मुजरिमों को शहा ! बख़्शवाता है तू
अपनी उम्मत की बिगड़ी बनाता है तू
ग़म के मारों को सीने लगाता है तू
ग़मज़दों, बे-कसों का तू ग़म-ख़्वार है
Mujrimon Ko Shaha ! Bakhshwata Hai Tu

Apni Ummat Ki Bigdi Banata Hai Tu

Gham Ke Maaron Ko Seene Lagaata Hai Tu

Ghamzadon, Be-Kason Ka Tu gham Khwar Hai

 

ठोकरें दर-ब-दर कब तक अब खाऊं मैं
फिर मदीने मुक़द्दर से जब आऊं मैं
काश ! क़दमों में सरकार मर जाऊं मैं
या नबी ! ये तमन्ना-ए-बदकार है

Thokren Dar Ba Dar Kab Tak Ab Khaun Mein

Fir Madine Muqaddar Se Jab Aaun Mein

Kaash ! Qadmon Me Sarkar Mar Jaun Mein

Ya Nabi ! Ye Tamanna E Badkar Hai

 

सुन्नतें मुस्तफ़ा की तू अपनाए जा
दीन को ख़ूब मेहनत से फैलाए जा
ये वसिय्यत तू अत्तार पहुंचाए जा
उस को जो उनके ग़म का तलब-गार है
Sunnaten Mustafa Ki Tu Apnaye Ja

Deen Ko Khoob Mehnat Se Failaye Ja

Ye Wasiyyat Tu Attar Pahuchaye Ja

Us Ko Jo Unke Gham Ka Talab Gaar Hai

By sulta