Moula Mera Ve Ghar Howe Lyrics

 

 

मौला मेरा वी घर होवे

दो जग दा तू सुल्तान ए
हर बे-ज़र ते हर बे-घर ते
मौला दिल विच अरमान ए

 

मौला मेरा वी घर होवे
उत्थे रह़मत दी छां होवे!!
मेरे दरवाज़े ते लिखया
नबी पाक दा नाम होवे!!

मौला मेरा वी घर होवे
उत्थे रह़मत दी छां होवे

 

मीलादे मुस्त़फ़ा मौला
मैं अपने घर करौणां ए !!
नबी मौला दा दस्तर-ख्वान
अपने विड़ सजौणां ए !!
खवावां मैं जित्थे लंगर
कोई ऐसी भी थां होवे !!

मौला मेरा वी घर होवे
उत्थे रह़मत दी छां होवे

 

ज़हूरे मुस्त़फ़ा बारह रवीउल अव्वल मनावांगा
मैं माहे नूर विच अपना सारा घर सजावांगा
आवे ओह रोज़ खुशियां दा मेरे घर विच समा होवे

मौला मेरा वी घर होवे
उत्थे रह़मत दी छां होवे

 

वुज़ू अंखियां दा हो जावे
नबी दी दीद जद होवे !!
किसी सच्चे मोमिन दी दुआ
कोई ना रद्द होवे !!
सुखां दा चन रवे चढ़दा
दुखां दा हर दिन परां होवे !!

मौला मेरा वी घर होवे
उत्थे रह़मत दी छां होवे

 

दुआ पूरी होवे जिस वेलयो
ओ वेल्ला वखा मौला !!
ओ दिन खुर्शीद दी तू ज़िन्दगी
दे विच लेया मौला !!
मदीने दी गली होवे
ते आई मेरी कज़ा होवे !!

मौला मेरा वी घर होवे
उत्थे रह़मत दी छां होवे

By sulta