Mojza Kitna Nirala Hua Meraj Me Lyrics

 

 

मेराज को चला दूला
मेराज को चला दूला

मोजिज़ा कितना निराला ये हुआ मेराज में
मोजिज़ा कितना निराला ये हुआ मेराज में

 

ला-मकां पहुंचे हबीब-ए-किब्रिया मेराज में
मोजिज़ा कितना निराला ये हुआ मेराज में 2

 

भीनी-भीनी थी हवा और रंग-ए-गुलशन था खिला
कोयल-ओ-बुलबुल भी थे नग़मा-सरा मेराज में
मोजज़ा कितना निराला ये हुआ मेराज में ×2

मेराज है मेरे आक़ा की
मेराज है मेरे आक़ा की

 

प्यारे आक़ा के क़दम पर हज़रत-ए-जिब्रील ने
अपने नूरानी लबों को रख दिया मेराज में
मोजज़ा कितना निराला ये हुआ मेराज में ×2

मेराज को चला दूल्हा
मेराज को चला दूल्हा

 

हर तरफ़ शादी रची है हर कोई है शादमा
आज महबूब-ए-खुदा दूल्हा बना मेराज में
मोजज़ा कितना निराला ये हुआ मेराज में ×2

 

जान-ए-ईमां जान-ए-इन्सां की सलामी के लिए
आस्माँ पर मुन्तज़िर थे अम्बिया मेराज में
मोजज़ा कितना निराला ये हुआ मेराज में ×2

मेराज है मेरे आक़ा की
मेराज है मेरे आक़ा की

 

हूर-ओ-गिल्मा और फ़रिश्ते मरहबा कहने लगे
जिस घड़ी पहुंचे फ़लक पर मुस्तफ़ा मेराज में
मोजज़ा कितना निराला ये हुआ मेराज में ×2

 

पेश करके अपना कांधा पा गए आला मक़ाम
ग़ौसे आज़म पेशवा-ए-औलिया मेराज में
मोजज़ा कितना निराला ये हुआ मेराज में ×2

 

हम गुनाहगारों से कितना प्यार है सरकार को
आप ने हक़ में हमारे की दुआ मेराज में
मोजज़ा कितना निराला ये हुआ मेराज में ×2

 

ज़ात-ए-रब और ज़ात ए पाक ए मुस्तफ़ा के दरमियां
कौन जाने किस क़दर था फ़ासला मेराज में
मोजज़ा कितना निराला ये हुआ मेराज में ×2

मेराज को चला दूल्हा
मेराज को चला दूल्हा

 

रुक गए सिदरा पे जाके हज़रत-ए-रूहुल अमीं
सिदरा से आगे गया नूर-ए-ख़ुदा मेराज में
मोजज़ा कितना निराला ये हुआ मेराज में ×2

 

गर्म बिस्तर भी रहा ज़ंजीर भी हिलती रही
आना-जाना मुस्तफ़ा का यूं हुआ मेराज में
मोजज़ा कितना निराला ये हुआ मेराज में ×2

मेराज है मेरे आक़ा की
मेराज है मेरे आक़ा की

 

चांद तारों को ऐ आसिम नाज़ था खुद पर बड़ा
आ गए वो भी नबी के ज़ेरे पा मेराज

Meraj Ko Chala Dula

Meraj Ko Chala Dula

 

Mojza Kitna Nirala Ye Hua Meraj Me

Mojza Kitna Nirala Ye Hua Meraj Me

 

La-Makan Pahuche Habibp-E-Kibriya Meraj Me

Mojza Kitna Nirala Ye Hua Meraj Me

 

Bheeni-Bheeni Thi Hawa Aur Rang-E-Gulshan Tha Khila

Koyal-O-Bulbul Bhi The Naghma-Sara Meraj Me

Mojza Kitna Nirala Ye Hua Meraj Me 2

 

Meraj Hai Mere Aaqa Ki

Meraj Hai Mere Aaqa Ki

 

Pyare Aaqa Ke Qadam Par Hazrat-E-Jibreel Ne

Apne Noorani Labon Ko Rakh Diya Meraj Me

Mojza Kitna Nirala Ye Hua Meraj Me 2

Meraj Ko Chala Dula

Meraj Ko Chala Dula

 

Har Taraf Shaadi Rachi Hai Har Koi Hai Shadma

Aaj Mahboob-E-Khuda Dula Bana Meraj Me

Mojza Kitna Nirala Ye Hua Meraj Me 2

 

Jaan-E-Ima.N Jaan-E-Insa Ki Salami Ke Liye

Aasaman Par Muntazir The Ambiya Meraj Me

Mojza Kitna Nirala Ye Hua Meraj Me 2

 

Meraj Hai Mere Aaqa Ki

Meraj Hai Mere Aaqa Ki

 

Hoor-O-Ghilma Aur Farishte Marhaba Kahne Lage

Jis Ghadi Pahuche Falak Par Mustafa Meraj Me

Mojza Kitna Nirala Ye Hua Meraj Me 2

 

Pesh Kar Ke Apna Kandha Paa Gaye Aala Maqam

Ghouse Azam Peshwa-E-Auliya Meraj Me

Mojza Kitna Nirala Ye Hua Meraj Me 2

 

Ham Gunahgaron Se Kitna Pyaar Hai Sarkar Ko

Aap Ne Haq Me Hamare Ki Dua Meraj Me

Mojza Kitna Nirala Ye Hua Meraj Me 2

 

Zaat-E-Rab Aur Zaat-E-Paak-E-Mustafa Ke Darmiyan

Koun Jaane Kis Kadar Tha Faasla Meraj Me

Mojza Kitna Niraala Ye Hua Meraj Me 2

 

Meraj Hai Mere Aaqa Ki

Meraj Hai Mere Aaqa Ki

 

Ruk Gaye Sidra Pe Jaa Ke Hazrat-E-Roohul Amin

Sidra Se Aage Gaya Noor-E-Khuda Meraj Me

Mojza Kitna Niraala Ye Hua Meraj Me 2

 

Garm Bistar Bhi Raha Zanjeer Bhi Hilti Rahi

Aana-Jana Mustafa Ka Yun Raha Meraj Me

Mojza Kitna Niraala Ye Hua Meraj Me 2

 

Meraj Hai Mere Aaqa Ki

Meraj Hai Mere Aaqa Ki

 

Chand Taaron Ko Ae Aasim Naaz Tha Khud Par Bada

Aa Gaye Wo Bhi Nabi Ke Zere Paa Meraj Me

By sulta