Meri Zindagi Ke Rahbar Bade Peer Ghouse Azam Lyrics
मेरी ज़िन्दगी के रहबर बड़े पीर ग़ौसे आज़म

Shayar: Akhtar Parwaz Naeem
Naat Khwan: Akhtar Parwaz Naeem

 

मेरी ज़िन्दगी के रहबर बड़े पीर ग़ौसे आज़म
नहीं तुम सा कोई बेहतर बड़े पीर ग़ौसे आज़म
Meri Zindagi Ke Rahbar Bade Peer Ghouse Azam
Nahin Tum Sa Koi Behtar Bade Peer Ghouse Azam

मेरी ज़िन्दगी के रहबर बड़े पीर ग़ौसे आज़म
Meri Zindagi Ke Rahbar Bade Peer Ghouse Azam

 

मेरे दिल की आरज़ू है तेरे आस्तां पे आकर
रहूं बनके तेरा नौकर बड़े पीर ग़ौसे आज़म
Mere Dil Ki Aarzu Hai Tere Aastan Pe Aakar
Rahun Banke Tera Noukar Bade Peer Ghouse Azam

मेरी ज़िन्दगी के रहबर बड़े पीर ग़ौसे आज़म
Meri Zindagi Ke Rahbar Bade Peer Ghouse Azam

 

अब तो जगा दो क़िस्मत, अपनी दिखा दो सूरत
ऐ औलिया के सरवर बड़े पीर ग़ौसे आज़म
Ab To Jaga Do Qismat, Apni Dikha Do Surat
Ay Auliya Ke Sarwar Bade Peer Ghouse Azam

मेरी ज़िन्दगी के रहबर बड़े पीर ग़ौसे आज़म
Meri Zindagi Ke Rahbar Bade Peer Ghouse Azam

 

मैंने पुकारा जब भी फौरन मदद को आए
फज़ले खुदा से अख़्तर बड़े पीर ग़ौसे आज़म
Maine Pukara Jab Bhi Fouran Madad Ko Aaye
Fazle Khuda Se Akhtar Bade Peer Ghouse Azam

मेरी ज़िन्दगी के रहबर बड़े पीर ग़ौसे आज़म
Meri Zindagi Ke Rahbar Bade Peer Ghouse Azam

By sulta