Meri Be hunar aankhen naat Lyrics

 

 

Meri Be hunar aankhen naat Lyrics

Scroll Down For English Lyrics

 

ज़िन्दगी में देख आईं उनका संग ए दर आंखें
कितनी मोतबर निकलीं मेरी बे हुनर आंखें

 

क्या बताएं तैबा से वापसी की बेचैनी
हम इधर चले आए रह गईं उधर आंखें

 

जब ज़बां ना कह पाई दिल की बात लफ़्ज़ों में
जालियों में जड़ आए आंसूओं से तर आंखें

 

बारिश ए तहारत में गुस्ल का करके लौटी हैं
उम्र भर न देखेंगी अब इधर-उधर आंखें

 

ज़िक्र ए हुस्न ए तैयबा का ह़क़ अदा नहीं होता
वरना लोग पी जाएं घोल-घोल कर आंखें

 

ऐ शकील जब उनका शहर याद आता है
फूट-फूट रोती हैं रात-रात भर आंखें

 

Naat Khwan: Shakil Arfi
Shayar: Shakil Arfi

Zindagi me dekh aayin unka sange dar aankhen
Kitni motabar nikli meri behunar aankhein

 

Kya bataein taiba se bapsi ki baichaini
Ham idhar chale aaye rah gayin udhar ankhen

 

Jab jaban na kah payi dil ki baat lafzon me
Jaliyon me jarr aaye ansuon se tar aankhen

 

Barish e taharat me gusl kar ke louti hain
Umr bhar na dekhengi ab idhar udhar ankhen

 

Zikre husne taiba ka haq ada nahin hota
Warna log pi jayen ghol ghol kar ankhen

 

Ae shakil jab unka shahar yaad aata hai
Phoot phoot roti hain raat raat bhar ankhen

Meri Be hunar aankhen naat Lyrics

By sulta