Mere Khwaja Maharaja Tu To Saare Jagat Ka Raaja Lyrics

 

Saayil Khade Hue Haiñ Inheñ De Ke Taal De
In Sab Ko De Ke Phir Meri Jholi Meiñ Daal De.

 

Jhoom Rahe Haiñ Mast Qalandar

Jhoom Rahe Haiñ Mast Qalandar
Kahte Haiñ Jaali Ko Pakad Kar

Mohan Mukh Ki Chhab Dikhla De
Aaj To Soye Bhag Jaga De

 

Bheed Lagi Hai Deewanon Ki
Ek Jhalak Dikhla Ja,

Mere Khwaja Maharaja
Tu To Saare Jagat Ka Raaja

 

Mere Khwaja Maharaja
Tu To Saare Jagat Ka Raaja …

 

Ikhtiyar Aur Koi Raah Guzar Kyuñ Karta
Maiñ Kisi Aur Taraf Azm-e Safar Kyuñ Karta
Jazba-e Ishq Ko Mahroom-e Asar Kyuñ Karta
Haal Ki Apne Zamaane Ko Khabar Kyuñ Karta

 

Mere Khwaja Maharaja
Tu To Saare Jagat Ka Raaja…

(Tarana)

Mere Khuwaja Maharaja
Tu To Saare Jagat Ka Raaja…

(Raaga)

Mere Khuwaja Maharaja
Tu To Saare Jagat Ka Raaja…

 

Haajateñ Le Ke Jo Is Dar Pe Chale Aate Haiñ
Jholiyañ Apni Muraadoñ Se Bhari Paate Haiñ
Khwaja Mañgtoñ Se Taghaaful Nahiñ Farmaate Haiñ
Sar Yahañ Fard-e Aqeedat Se Jhuke Jaate Haiñ

 

Mere Khwaja Maharaja
Tu To Saare Jagat Ka Raaja…

Mere Khuwaja Maharaja
Tu To Saare Jagat Ka Raaja…

 

Khwaja Qutbuddeen Ko Azmat Bakhshi Hai
Ganj-e Shakar Ko Shaan-e Sakhawat Bakhshi Hai
Khwaja Nizamuddin Ko Bakhsi Mahboobi
Aur Sabir Ko Sabr Ki Daulat Bakhshi Hai

 

Mere Khwaja Maharaja
Tu To Saare Jagat Ka Raaja…

(Tarana)

Mere Khuwaja Maharaja
Tu To Saare Jagat Ka Raaja…

 

Khwaja Qutbuddeen Ko Azmat Bakhshi Hai
Ganj-e Shakar Ko Shaan-e Sakhawat Bakhshi Hai
Khwaja Nizamuddin Ko Bakhsi Mahboobi
Aur Sabir Ko Sabr Ki Daulat Bakhshi Hai

Faiz o Karam Khwaja Ka Har Dam Jaari Hai
Haal Tujhe Kahne Meiñ Kya Dushwaari Hai

Ro Ro Kar Tu Khwaja Se Fariyad To Kar
Aage Sab Khwaja Ki Zimmedari Hai

 

Mere Khwaja Maharaja
Tu To Saare Jagat Ka Raaja…

 

Mehdi Laga Le Baañdh Le Kañgna
Aaye Qutab Haiñ Tore Añgna.

Noor Ki Baarish Hoti Hai Din-Raat Yahañ
Shaam-Sahar Hai Rahmat Ki Barsaat Yahañ
Khwaja Ki Chaukhat To Aisi Chaukhat Hai
Ban Jaati Hai Bigdi Hui Har Baat Yahañ

 

Mere Khuwaja Maharaja
Tu To Saare Jagat Ka Raaja…

 

Khwaja Ka Darbar Hai Khwaja Sabka Hai
Sabka Beda Paar Hai Khwaja Sabka Hai
Lutf o Karam Ki BaTti Hai Khairaat Yahañ
Be Haq Bhi Haqdar Hai Khwaja Sab Ka Hai

 

Mere Khwaja Maharaja
Tu To Saare Jagat Ka Raaja…

 

Khalq Khadi Hai Khwaja Ke Darbaaze Par
Bheed Lagi Hai Khwaja Ke Darbaaze Par
Duniya Bhar Ke Saare Haajat Mandoñ Ki
Baat Bani Hai Khwaja Ke Darbaaze Par

 

Mere Khwaja Maharaja
Tu To Saare Jagat Ka Raaja…

 

Khwaja Ka Darbar Hai Khwaja Sabka Hai

Khwaja Ka Darbar Hai, Ye To
Khwaja Ka Darbar Hai, Ye To..

 

Parde Uthe Hue Bhi Haiñ
Unki Nazar Idhar Bhi Hai
Badh Ke Muqaddar Aazma
Sar Bhi Hai Sang-e Dar Bhi Hai

 

Ye To, Khwaja Ka Darbar Hai ..
Ye To, Khwaja Ka Darbar Hai ..

 

Kyuñ Taraste Ho Khwaja Ke Deedar Ko
Haal Apna Sunaao Na Sarkaar Ko
Inke Kooche Ki Azmat Ka Kya Poochhna
Rahmateñ Dhooñdhti Hai Gunahgar Ko

 

Ye To, Khwaja Ka Darbar Hai ..
Ye To, Khwaja Ka Darbar Hai ..

 

Tere MaiKhwaar Khwaja Ye Sabr o Raza
Is Tarah Haamil e Bekhudi Ho Gaye

Ibtada Jab Hui To Qalandar Bane
Intaha Yuñ Hui Boo-Ali Ho Gaye

Marhaba Marhaba Dard e Ishq e Nabi
Tere Deewaano Ki Har Taraf Jeet Hai

Tere Adna Ghulamoñ Ke Darbar Meiñ
Chor Chori Ko Aaye Aur Wali Ho Gaye

 

Ye To, Khwaja Ka Darbar Hai ..
Ye To, Khwaja Ka Darbar Hai ..

 

Mere Khuwaja Maharaja
Tu To Saare Jagat Ka Raaja…

 

Khwaja Ka Darbar Hai Khwaja Sabka Hai
Sabka Beda Paar Hai Khwaja Sabka Hai.

 

Haazir Ho Kar Apna Areeza Pesh To Kar
Fikr Teri Bekaar Hai Khwaja Sabka Hai.

 

Naadaaroñ Par, Sardaroñ Se Pahle Karam
Ye Aisa Darbaar Hai, Khwaja Sabka Hai.

 

Hindu, Muslim, Sikh, Isaayi Koi Bhi Ho
Sabka Paalanhaar Hai Khwaja Sabka Hai.

 

Poori Sabke Dil Ki Muraadeñ Hoti Haiñ
Usmaani Dildar Hai Khwaja Sabka Hai.

 

Dhadkan Dhadkan Khwaja Khwaja RatTi Hai
Har Su Jai Jai Kaar Hai, Khwaja Sabka Hai.

 

Mere Khwaja Maharaja
Tu To Saare Jagat Ka Raaja …

 

(Maine arz kiya:)
Dua Bhi Meri Be Asar Ho Gayi Hai
Khuda Ke Liye Ek Nigah E Karam Ho
Sada Dete Dete Sahar Ho Gayi Hai

Dukh Zadonñ Ke Maseeha Mujhe Bheek De
Mera Daaman Hai Khaali Mujhe Bheek De

 

(To sadaa aayi:)
Tujh Ko Lena Na Aaye To Kya Bheek Deñ
Hum Haiñ Dene Ko Tayyar, Aa Bheek Le

 

Mere Khuwaja Maharaja
Tu To Saare Jagat Ka Raaja..

 

Unki Nazar Meiñ Chhote Bade Ka Farq Nahiñ
Ye Sab Ko Iqraar Hai, Khwaja Sabka Hai
Saahil Apni Bakhshish Ka Gham Rahne De
Khwaja Zimmedar Hai, Khwaja Sabka Hai

 

Mere Khwaja Maharaja
Tu to Saare Jagat Ka Raaja..

Mere Khwaja Maharaja
Tu To Saare Jagat Ka Raaja..

 

 

 

साइल खड़े हुए हैं इन्हें दे के टाल दे
इन सब को दे के फिर मेरी झोली में डाल दे।

 

झूम रहे हैं मस्त क़लंदर

झूम रहे हैं मस्त क़लंदर
कहते हैं जाली को पकड़कर

मोहन मुख की छब दिखला दे
आज तो सोए भाग जगा दे

भीड़ लगी है दीवानों की एक झलक दिखला जा,
मेरे ख़्वाजा महाराजा तू तो सारे जगत का राजा …

मेरे ख्वाजा महाराजा तू तो सारे जगत का राजा …

 

इख़्तियार और कोइ राह-गुज़र क्यों करता
मैं किसी और त़रफ़ अज़्म-ए सफ़र क्यों करता
जज़्ब-ए-इश्क़ को महरूम- ए-असर क्यों करता
हाल की अपने ज़माने को ख़बर क्यों करता।

 

मेरे ख़्वाजा महाराजा तू तो सारे जगत का राजा …

(तराना)

मेरे ख़्वाजा महाराजा तू तो सारे जगत का राजा …

(राग)

मेरे ख्वाजा महाराजा तू तो सारे जगत का राजा…

 

हाजतें लेके जो इस दर पे चले आते हैं
झोलियां अपनी मुरादों से भरी पाते हैं
ख़्वाजा मंगतों से तग़ाफ़ुल नहीं फ़रमाते हैं
सर यहां फ़र्दे अ़क़ीदत से झुके जाते हैंं।

मेरे ख़्वाजा महाराजा तू तो सारे जगत का राजा…
मेरे ख्वाजा महाराजा तू तो सारे जगत का राजा…

 

ख़्वाजा क़ुतुबुद्दीन को अ़ज़मत बख्शी है
गंज-ए शकर को शाने सख़ावत बख़्शी है
ख़्वाजा निजामुद्दीन को बख्शी महबूबी
और साबिर को सब्र की दौलत बख्शी है

मेरे ख्वाजा महाराजा तू तो सारे जगत का राजा …

(तराना)

मेरे ख़्वाजा महाराजा तू तो सारे जगत का राजा …

 

ख़्वाजा क़ुतुबुद्दीन को अ़ज़मत बख्शी है
गंजे शकर को शाने सख़ावत बख़्शी है

ख़्वाजा निजामुद्दीन को बख्शी महबूबी
और साबिर को सब्र की दौलत बख्शी है

फ़ैज़-ओ- करम ख्वाजा का हर दम जारी है
हाल तुझे कहने में क्या दुशवारी है

रो रो कर तू ख़्वाजा से फ़रियाद तो कर
आगे सब ख्वाजा की ज़िम्मेदारी है

 

मेरे ख़्वाजा महाराजा तू तो सारे जगत का राजा …

 

मेंहदी लगा ले और बांध ले कंगना
आये क़ुत़ब हैं तोरे अंगना

नूर की बारिश होती है दिन रात यहां
शाम सहर है रह़मत की बरसात यहां
ख़्वाजा की चौखट तो ऐसी चौखट है
बन जाती है बिगड़ी हुई हर बात यहां

मेरे ख़्वाजा महाराजा तू तो सारे जगत का राजा …

 

ख़्वाजा का दरबार है ख़्वाजा सबका है
सब का बेड़ा पार है ख़्वाजा सबका है
लुत़्फ़ो करम की बटती है ख़ैरात यहां
बे हक़ भी हक़दार है ख़्वाजा सबका है।

मेरे ख़्वाजा महाराजा तू तो सारे जगत का राजा …

 

ख़ल्क़ खड़ी है ख़्वाजा के दरवाजे पर
भीड़ लगी है ख़्वाजा के दरवाजे पर
दुनिया भर के सारे हाजत-मन्दों की
बात बनी है ख़्वाजा के दरवाज़े पर ।

मेरे ख़्वाजा महाराजा तू तो सारे जगत का राजा …

 

ख़्वाजा का दरबार है ख़्वाजा सबका है

ख़्वाजा का दरबार है, ये तो
ख़्वाजा का दरबार है, ये तो ..

 

पर्दे उठे हुए भी हैं उनकी नज़र इधर भी है
बढ़ के मुक़द्दर आ़ज़मा सर भी है संगे दर भी है

ये तो, ख़्वाजा का दरबार है
ये तो, ख़्वाजा का दरबार है ..

 

क्यों तरसते हो ख़्वाजा के दीदार को
हाल अपना सुनाओ न सरकार को
इनके कूचे की अज़मत का क्या पूछना
रह़मते ढूंढती हैं गुनाहगार को

 

ये तो, ख़्वाजा का दरबार है ..
ये तो, ख़्वाजा का दरबार है ..

 

तेरे मयख़्वार ख़्वाजा ये सब्रो रज़ा
इस तरह हामिले बेखुदी हो गए

इबत़िदा जब हुई तो क़लंदर बने
इंतहा यूं हुई बू-अली हो गए

मरहबा मरहबा दर्दे इश्क़े नबी
तेरे दीवानों की हर तरफ़ जीत है

तेरे अदना ग़ुलामों के दरबार में
चोर चोरी को आये और बली हो गए

 

ये तो, ख़्वाजा का दरबार है ..
ये तो, ख़्वाजा का दरबार है ..

मेरे ख़्वाजा महाराजा तू तो सारे जगत का राजा …

 

ख़्वाजा का दरबार है ख़्वाजा सबका है
सब का बेड़ा पार है ख़्वाजा सबका है।

हाज़िर होकर अपना अरीज़ा पेश तो कर
फ़िक्र तेरी बेकार है ख़्वाजा सबका है।

नादारों पर, सरदारों से पहले करम
ये ऐसा दरबार है, ख़्वाजा सबका है।

हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई कोइ भी हो
सबका पालनहार है ख़्वाजा सबका है।

पूरी सबके दिल की मुरादें होती हैं
उस्मानी दिलदार है ख़्वाजा सबका है।

धड़कन धड़कन ख़्वाजा ख़्वाजा रटती है
हर सू जय जय कार है ख़्वाजा सबका है।

 

मेरे ख़्वाजा महाराजा तू तो सारे जगत का राजा …

 

(मैंने अ़र्ज़ किया:)

दुआ भी मेरी बेअसर हो गई है
खुदा के लिए एक निगाहे करम हो
सदा देते देते शहर हो गई है

दुख ज़दों के मसीहा मुझे भीक दे
मेरा दामन है खाली मुझे भीक दे

 

(तो सदा आई:)

तुझको लेना ना आए तो क्या भीख दें
हम हैं देने को तैयार, आ भीक ले

 

मेरे ख़्वाजा महाराजा तू तो सारे जगत का राजा …

 

उनकी नज़र में छोटे बड़े का फ़र्क़ नहीं
ये सब को इक़रार है, ख़्वाजा सबका है
साहिल अपनी बख़्शिश का ग़म रहने दे
ख़्वाजा ज़िम्मेदार है, ख़्वाजा सबका है

मेरे ख्वाजा महाराजा तू तो सारे जगत का राजा …
मेरे ख्वाजा महाराजा तू तो सारे जगत का राजा …

By sulta