Mera sultan mujhe ghar baithe dila deta hai lyrics

मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

Nisbat ho salamat teri, nisbat ho salamat
निस्बत हो सलामत तेरी, निस्बत हो सलामत

 

Nisbat ki badoulat meri izzat hai salamat
निस्बत की बदौलत मेरी इज़्ज़त है सलामत है

 

Apni nisbat ka wo kuchh aisa sila deta hai
Mera sulta.n mujhe ghar baithe dila deta hai

अपनी निस्बत का वो कुछ ऐसा सिला देता है
मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

 

Khwaja ko pukare to koi chahne wala
Mayoos kabhi hota nahin chahne wala
Mera sulta.n mujhe ghar baithe dila deta hai

ख्वाजा को पुकारे तो कोई चाहने वाला
मायूस कभी होता नहीं चाहने वाला
मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

 

Sulta.n mera aulad e ali shere khuda hai
Sultan aarfi ka dil to maa ki taraha hai
Mera sulta.n mujhe ghar baithe dila deta hai

सुल्तां मेरा औलाद ए अली शेरे ख़ुदा है
सुल्तान आरफ़ी का दिल तो मां की तरहां है
मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

 

Ham to yakeen rakhte hein sulta.n ki shan par
Rahmat baras rahi hai mere khandaan par
Mera sulta.n mujhe ghar baithe dila deta hai

हम तो यकीन रखते हैं सुल्तां की शान पर
रह़मत बरस रही है मेरे खानदान पर
मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

 

Sultan ki har dilon pe hukoomat hai, raaj hai
Rakhta hamesha chahne walon ki laaj hai
Mera sulta.n mujhe ghar baithe dila deta hai

सुल्तां की हर दिलों पर हुकूमत है, राज है
रखता हमेशा चाहने वालों की लाज है
मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

 

Daman kahin pasara nahi is yakeen par
Sulta.n ke dar ki khaaq hai meri jabeen par
Mera sulta.n mujhe ghar baithe dila deta hai

दामन कहीं पसारा नहीं इस यकीन पर
सुल्तां के दर की ख़ाक है मेरी जबीन पर
मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

 

Meri zuban pe raat o din sulta.n ka zikr hai
Sulta.n ko khud hi apne ghulamon ki fikr hai
Mera sultan mujhe ghar baithe dila deta hai

मेरी ज़ुबां पे रात ओ दिन सुल्तां का ज़िक्र है
सुल्तां को खुद ही अपने ग़ुलामों की फ़िक्र है
मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

 

Meri madad ko aata hai haider ka dulara
Sultan arfeen ko jis waqt pukara
Mera sulta.n mujhe ghar baithe dila deta hai

मेरी मदद को आता है हैदर का दुलारा
सुल्तान आरफ़ीन को जिस वक़्त पुकारा
मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

 

Sulta.n ka gharana hai muhammad ka gharana
Mangton pe lutata hai ye haider ka khazana
Mera sulta.n mujhe ghar baithe dila deta hai

सुल्तां का घराना है मुह़म्मद का घराना
मंगतों पे लुटाता है ये हैदर का खज़ाना
मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

 

Sulta.n ki apne ghar me jo mahfil sajayi hai
Aate hain madad ke liye awaz aai hai
Mera sulta.n mujhe ghar baithe dila deta hai

सुल्तां की अपने घर में जो महफ़िल सजाई है
आते हैं मदद के लिए आवाज़ आई है
मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

 

Sultan ne bharam rakh liya apne ghulam ka
Sadqa diya hai sultan muhammad ke naam ka
Mera sulta.n mujhe ghar baithe dila deta hai

सुल्तां ने भरम रख लिया अपने ग़ुलाम का
सदक़ा दिया है सुल्तां ने मुहम्मद के नाम का
मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

 

Peene walon chale aao to dar e sultan par
Jaam nisbat ka wo nazron se pila deta hai
Mera sulta.n mujhe ghar baithe dila deta hai

पीने वालों चले आओ तो दरे सुल्तां पर
जाम निस्बत का वो नज़रों से पिला देते हैं
मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

 

Aisa sultan hamara hai badaiyon wala
Ye shahanshah hai do aalam se mila deta hai
Mera sulta.n mujhe ghar baithe dila deta hai

ऐसा सुल्तान हमारा है बदायूं वाला
ये शहंशाह है दो आलम से मिला देता है
मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

 

Jis ki janib wo nigahon ko utha de logon
Phool ulfat ka wo us dil me khila deta hai
Mera sulta.n mujhe ghar baithe dila deta hai

जिसकी जानिब वो को निगाहों को उठा दे लोगों
फूल उल्फ़त का वो उस दिल में खिला देता है
मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

 

Mera sultan hai usi ghar ki nishani dekho
Khud nahin khata hai mangton ko khila deta hai
Mera sulta.n mujhe ghar baithe dila deta hai

मेरा सुल्तां है उसी घर की निशानी देखो
खुद नहीं खाता है मंगतों को खिला देता है
मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

 

Mere sultan ke maston se na uljhe koi
Inka diwana zamane ko hila deta hai
Mera sulta.n mujhe ghar baithe dila deta hai

मेरे सुल्तां के मस्तों से ना उलझे कोई
इनका दीवाना ज़माने को हिला देता है
मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

 

Aa gaya jab se main sultan ki gulami me junaid
Mere har kaam ko do pal me bana deta hai
Mera sulta.n mujhe ghar baithe dila deta hai

आ गया जब से मैं सुल्तां की ग़ुलामी में जुनैद
मेरे हर काम को दो पल में बना देता है
मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

 

Uska ho jata hai allah bhi beahaq tarik
Peer ke naam pe jo hasti ko mita deta hai
Mera sulta.n mujhe ghar baithe dila deta hai

उसका हो जाता है अल्लाह भी बेशक़ तारिक
पीर के नाम पे जो हस्ती को मिटा देता है
मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

 

Apni nisbat ka wo kuchh aisa sila deta hai
Mera sultan mujhe ghar baithe dila deta hai

अपनी निस्बत का वो कुछ ऐसा सिला देता है
मेरा सुल्तां मुझे घर बैठे दिला देता है

By sulta