Mera Koi Nahi Hai Tere Siwa Hindi Lyrics

 

मेरा कोई नहीं है तेरे सिवा कव्वाली लिरिक्स – साबरी..

 

Mera Koi Nahi Hai Tere Siwa Lyrics in English

जो कुछ भी मांगना … है दरे मुस्तफा से मांग
अल्लाह के हबीब शहे अंबिया से मांग

आ …
अब तक कहां अंधेरों में भटका हुआ था तू
गर रौशनी की चाह है नूरे ख़ुदा से मांग।

 

मेरा कोई नहीं है तेरे सिवा

मेरा कोई नहीं है तेरे सिवा
मैं बन के सवाली आया हूं
मैं बन के सवाली आया हूं

 

मेरा कोई नहीं है तेरे सिवा
मेरा को ई नहीं है तेरे सिवा

 

मुझे नज़रे करमे की भीख मिले
मुझे नजरे करमे की भीख मिले

मुझे भीक मिले
आक़ा भीक़ मिले

मुझे भीख मिले
आक़ा भीक़ मिले

 

करम की भीख अ़ता हो गुनहगारों को
सहारा दीजिये सरकार बेसहारो को

भीख मिले दाता भीख मिले
मुझे भीक मिले
आक़ा भीक़ मिले

मुझे भीख मिले
आक़ा भीक़ मिले

 

अगर हज़ूर की रहमत का आसरा हो जाए
ज़माने में मुझे जीने का हौसला हो जाए

भीख मिले
भीख मिले
आक़ा भीक़ मिले

मुझे नज़रे करमे की भीख मिले
मैं झोली खाली लाया हूं।

 

मेरा कोई नहीं है तेरे सिवा
मेरा कोई नहीं है तेरे सिवा

 

सदा गुनहाओ में गुजारी है ज़िंदगी सारी
सदा गुनहाओ में गुजारी है ज़िंदगी सारी
मैं तुझको भूल गया था ऐ रहमते बारी
मैं तुझको भूल गया था ऐ रहमते बारी

 

गुनाहगार सही फिर भी खुश नसीब हूं मैं
शरीक उम्मते आ़ली में ऐ ह़बीब हूं मैं
शरीक उम्मते आ़ली में ऐ ह़बीब हूं मैं

मैं ख़ाक बन के फ़िज़ां में बिखर गया होता
मैं ख़ाक बन के फ़िज़ां में बिखर गया होता
वसीला मिलता न तेरा तो मर गया होता

भीख मिले
आक़ा भीख मिले

मुझे भीख मिले
मुझे भीख मिले

मुझे नज़रे करमे की भीख मिले
मैं झोली खाली लाया हूं।

मेरा कोई नहीं है तेरे सिवा
मेरा कोई नहीं है तेरे सिवा

 

न मोनिस है न कोई मेरा हमदम या रसूलल्लाह
तेरा ही नाम होठों पर है हरदम या रसूलल्लाह

ज़े रहमत कुन नज़र बर हाले ज़ारम या रसूलल्लाह
गरीबम बे नवायम ख़ाक सारम या रसूलल्लाह

 

मेरी हालत पे रहमत की नज़र सरकार हो जाए
तसव्वुर ही में रौज़े का मुझे दीदार हो जाए

मुझे भीख मिले
मुझे भीख मिले

मुझे नज़रे करमे की भीख मिले
मैं झोली खाली लाया हूं।

मेरा कोई नहीं है तेरे सिवा
मेरा कोई नहीं है तेरे सिवा

 

कहां कहां न फिरा मैं सुकूने जां के लिए
कहां कहां न फिरा मैं सुकूने जां के लिए
तड़प रहा हूं मगर तेरे आस्तां के लिए
तड़प रहा हूं मगर तेरे आस्तां के लिए

तुही है क़िब्ला …
तुही है क़िब्ला, तुही काबा, तूही ईमां है
ख़ुदा का इश्क़ है, अर्ज़ो समा का उनवां है
ख़ुदा का इश्क़ है, अर्ज़ो समा का उनवां है

कहें, ख़ुदा से मेरी राह जोड़ने वाले
कहें, ख़ुदा से मेरी राह जोड़ने वाले
तेरी तलाश में पाओं में पड़ गए छले।

भीख मिले
आक़ा भीख मिले

मुझे भीख मिले
आक़ा भीख मिले

मुझे नज़रे करम की मुझे भीख मिले
मैं झोली ख़ाली लाया हूं

मेरा कोई नहीं है तेरे सिवा
मेरा कोई नहीं है तेरे सिवा
मेरा कोई नहीं है तेरे सिवा

 

जिस के लबों पे अह़मदे मुरसल का नाम है
वल्लाह उसपे आतिशे दोज़ख़ ह़राम है

मुश्किल, ख़ुदा गवाह है मुश्किल नहीं रही
मुश्किल के वक़्त जब कहा सल्ले अला कभी

ख़लक़त का राहबर है, ख़ुदा का ह़बीब है
दोनों जहां में शान है सल्ले अ़ला तेरी।

सल्लल्लहो अ़लैहे वसल्लम
सल्लल्लहो अ़लैहे वसल्लम
सल्लल्लहो अ़लैहे वसल्लम
सल्लल्लहो अ़लैहे वसल्लम
सल्लल्लहो अ़लैहे वसल्लम

 

मैं क्या बताऊं के तुम क्या हो या ह़बीबल्लाह!
मैं क्या बताऊं के तुम क्या हो या ह़बीबल्लाह
ह़सीं, जमीलो-मलीं हो, वजी हो जिल्लल्लाह!
हसीं, जमीलो मलीं हो, वजी हो जिल्लल्लाह!

जो बद्र चेहरा तो वल्लैल हैं ये जु़ल्फे सियाह
है हद कलामे कलीम और हद कलामुल्लह

के हज्जे रुख के जबीं लाइलाहा इल्लल्लाह
मोहम्मद, सल्लल्लहो अलिहे वसल्लम

सल्लल्लहो अलिहे वसल्लम
सल्लल्लहो अलिहे वसल्लम
सल्लल्लहो अलिहे वसल्लम
सल्लल्लहो अलिहे वसल्लम
सल्लल्लहो अलिहे वसल्लम

 

चे कुनम बयाने कमाले ऊ
ब-ल-गल उला बे कमालेही

चे फरोग करदा जमाले ऊ
क-श-फ़द्दुजा बे जमालेही

मनो है़रतम जे खि़साले ऊ
हसोनत जमी ओ खिसालेही

मनो हैरतम जे खिसाले ऊ
हसोनत जमी ओ खिसालेही

दिलो जाने मा बा-खयाले ऊ
सल्लू अलैहे व आलेही

मोहम्मद
सल्लल्लहो अलिहे वसल्लम
सल्लल्लहो अलिहे वसल्लम
सल्लल्लहो अलिहे वसल्लम

 

अल्लाह के बाद सिर्फ़ मोहम्मद का नाम है
अल्लाह के बाद सिर्फ़ मोहम्मद का नाम है

आ …
अल्लाह के बाद सिर्फ़ मोह़म्मद का नाम है
इश्क़-ए रसूल गर न हो जीना ह़राम है

 

मोह़म्मद,
सल्लल्लहो अलैका या रसूलल्लाह
सल्लल्लहो अलैका या रसूलल्लाह
सल्लल्लहो अलैका या रसूलल्लाह

वसल्लम अलैका या हबीबल्लाह
वसल्लम अलैका या हबीबल्लाह

 

तू फख्र हुआ आदम के लिए
तू फ़ख्र हुआ आदम के लिए
तू रह़मत है आ़लम के लिए
तू रहमत है आलम के लिए

तख़लीक हुआ तू करम के लिए
तू ग़ैबे रसाने आ़लम है

सल्लल्लहो अ़लैका या रसूलल्लाह
सल्लल्लहो अलैका या रसूलल्लाह

 

कामत का नहीं साया है तेरे
कामत का नहीं साया है तेरे
ये अक़्ल ही क्या जो तुझे समझे
ये अक़्ल ही क्या जो तुझे समझे

तू लाख बशर अपने को कहे
कुछ और गुमाने आलम है

सल्लल्लहो अलैका या रसूलल्लाह
सल्लल्लहो अलैका या रसूलल्लाह

 

बेपर्दा हुआ जब हुस्न तेरा
बेपर्दा हुआ जब हुस्न तेरा
यूसुफ ने कहा माशा अल्लाह!
यूसुफ ने कहा माशा अल्लाह!

इक मैं ही नहीं शैदा हूं तेरा
हर पीरो जहाने आलम है

सल्लल्लहो अलैका या रसूलल्लाह
सल्लल्लहो अलैका या रसूलल्लाह

या रसूलल्लाह
या रसूलल्लाह
या रसूलल्लाह

By sulta