Marhaba Agaya Ramdan Hai Lyrics

 

Marhaba Aa Gaya Ramzan Hai 4

 

Marhaba Sad Marhaba Phir Aa Gaya Ramzan Hai

Khil Uthe Murjhaye Dil Taaza Hua Imaan Hai

 

Marhaba Aa Gaya Ramzan Hai 4

 

Ya Khuda Ham Aasiyon Par Ye Bada Ahsaan Hai

Zindagi Me Phir Ata Hamko Kiya Razan Hai

 

Marhaba Aa Gaya Ramzan Hai 4

 

Tujh Pe Sadqe Jaun Ramza Tu Azimushshan Hai

Tujh Me Naazil Haq Ta’ala Ne Kiya Quraan Hai

 

Marhaba Aa Gaya Ramzan Hai 4

 

Abr-E-Rahmat Chha Gaya Hai Aur Sama Hai Noor Noor

Fazle Rab Se Maghfirat Ka Ho Gaya Saman Hai

 

Marhaba Aa Gaya Ramzan Hai 4

 

Har Ghari Rahmat Bhari Hai Har Taraf Hain Barkatein

Maahe Ramza Rahmaton Aur Barkaton Ki Kaan Hai

 

Marhaba Aa Gaya Ramzan Hai 4

 

Aa Gaya Ramzan Ibadat Par Qamar Ab Bandh Lo

Faiz Le Lo Jald Ye Din Tees Ka Mahman Hai

 

Marhaba Aa Gaya Ramzan Hai 4

 

Aasiyon Ki Maghfirat Ka Lekar Aaya Hai Payaam

Jhoom Jao Mujrimon Ramza Mahe Ghufran Hai

 

Marhaba Aa Gaya Ramzan Hai 4

 

Bhaiyo Bahno Karo Sab Nekiyon Par Nekiyan

Pad Gaye Dozakh Pe Taale Qaid Me Saitan Hai

 

Marhaba Aa Gaya Ramzan Hai 4

 

Bhaiyo Bahno Gunahon Se Sabhi Tauba Karo

Khuld Ke Dar Khul Gaye Hain Daakhila Aasaan Hai

 

Marhaba Aa Gaya Ramzan Hai 4

 

Kam Hua Zor-E-Gunah Aur Masjiden Aabaad Hain

Mahe Ramzanul Mubarak Ka Ye Sab Faizan Hai

 

Marhaba Aa Gaya Ramzan Hai 4

 

Rozadaron Jhoom Jao Kyon Ki Deedar-E-Khuda

Khuld Me Hoga Tumhe Ye Wada-E-Rahman Hai

 

Marhaba Aa Gaya Ramzan Hai 4

 

Do Jahan Ki Nematein Milti Hain Rozadar Ko

Jo Nahin Rakhta Hai Roza Woh Bada Nadaan Hai

 

Marhaba Aa Gaya Ramzan Hai 4

 

Ya Ilahi Tu Madine Me Kabhi Ramza Dikha

Muddaton Se Dil Me Ye Attar Ke Arman Hai

 

Marhaba Aa Gaya Ramzan Hai 4

 

Naat Khwan: Asad Raza Attari

Shayar: Muhammad Ilyas Attar Qadri

Marhaba Agaya Ramdan Hai Lyrics Hindi

मरहबा सद मरहबा ! फिर आ गया रमज़ान है

खिल उठे मुरझाए दिल, ताज़ा हुआ ईमान है

 

मरहबा आ गया रमज़ान है ×4

 

या ख़ुदा ! हम ‘आसियों पर ये बड़ा एहसान है

ज़िंदगी में फिर अता हम को किया रमज़ान है

 

मरहबा आ गया रमज़ान है ×4

 

तुझ पे सदक़े जाऊँ रमज़ाँ ! तू ‘अज़ीमुश्शान है

तुझ में नाज़िल हक़ त’आला ने किया क़ुरआन है

 

मरहबा आ गया रमज़ान है ×4

 

अब्र-ए-रहमत छा गया है और समाँ है नूर नूर

फ़ज़्ल-ए-रब से मग़्फ़िरत का हो गया सामान है

 

मरहबा आ गया रमज़ान है ×4

 

हर घड़ी रह़मत भरी है, हर तरफ़ हैं बरकतें

माह-ए-रमज़ाँ रहमतों और बरकतों की कान है

 

मरहबा आ गया रमज़ान है ×4

 

आ गया रमज़ाँ, ‘इबादत पर कमर अब बाँध लो

फ़ैज़ ले लो जल्द, ये दिन तीस का मेहमान है

 

मरहबा आ गया रमज़ान है ×4

 

‘आसियों की मग़्फ़िरत का ले कर आया है पयाम

झूम जाओ मुजरिमो ! रमज़ाँ मह-ए-ग़ुफ़रान है

 

मरहबा आ गया रमज़ान है ×4

 

भाइयो बहनो करो सब नेकियों पर नेकियाँ

पड़ गये दोज़ख़ पे ताले क़ैद.में शैतान है

 

मरहबा आ गया रमज़ान है ×4

 

भाइयो बहनो गुनाहों से सभी तौबा करो

ख़ुल्द के दर खुल गए हैं, दाख़िला आसान है

 

मरहबा आ गया रमज़ान है ×4

 

कम हुआ ज़ोर-ए-गुनह और मस्जिदें आबाद हैं

माह-ए-रमज़ान-उल-मुबारक का ये सब फ़ैज़ान है

 

मरहबा आ गया रमज़ान है ×4

 

रोज़ादारो ! झूम जाओ, क्यूँ-कि दीदार-ए-ख़ुदा

ख़ुल्द में होगा तुम्हें, ये वा’द-ए-रहमान है

 

मरहबा आ गया रमज़ान है ×4

 

दो जहाँ की नेमतें मिलती हैं रोज़ादार को

जो नहीं रखता है रोज़ा वो बड़ा नादान है

 

मरहबा आ गया रमज़ान है ×4

 

या इलाही ! तू मदीने में कभी रमज़ाँ दिखा

मुद्दतों से दिल में ये ‘अत्तार के अरमान है

 

मरहबा आ गया रमज़ान है ×4

By sulta