Mar Ke Apni Hi Adaon Pe Amar Ho Jaun Lyrics

 

मर के अपनी ही अदाओं पे अमर हो जाऊं Lyrics

 

मर के अपनी ही अदाओं पे अमर हो जाऊं Lyrics Hindi

 

Mar Ke Apni Hi Adaon Pe Amar Ho Jaun

Unki Dahleej Ke Qaabil Main Agar Ho Jaun

मर के अपनी ही अदाओं पे अमर हो जाऊं

उनकी दहलीज के क़ाबिल मैं अगर हो जाऊं

 

Unki Raahon Pe Mujhe Itna Chalaana Ya Rab

Ke Safar Karte Huye Gard-E-Safar Ho Jaun

उनकी राहों पे मुझे इतना चलाना या रब

के सफ़र करते हुए गर्दे सफ़र हो जाऊं

 

Zindagi Ne To Samandar Me Mujhe Fek Diya

Apni Mutthi Me Wo Le Le To Gohar Ho Jaun

ज़िन्दगी ने तो समन्दर में मुझे फेंक दिया

अपनी मुट्ठी में वो ले-लें तो गोहर हो जाऊं

 

Mera Mahboob Hai Wo Rahbar-E-Kaun-O-Makan

Jiski Aahat Bhi Main Sun Lun To Khijar Ho Jaun

मेरा महबूब है वो रहबर-ए-कौनो मकां

जिसकी आहट भी मैं सुन लूं तो खिजर हो जाऊं

 

Is Qadar Ishq-E-Nabi Ho Ke Mita Dun Khud Ko

Is Qadar Khauf-E-Khuda Ho Ke Nidar Ho Jaun

इस क़दर इश्क़े नबी हो के मिटा दूं खुद को

इस क़दर खौफ़े ख़ुदा हो के निडर हो जाऊं

 

Zarb Dun Khud Ko Jo Unse To Lagun La-Tadaad

Wo Jo Mujh Me Se Nikal Jayen Sifar Ho Jaun

ज़र्ब दूं खुद को जो उनसे तो लगूँ ला-तादात

वो जो मुझ में से निकल जाएं सिफ़र हो जाऊं

 

Jo Pahunchti Rahe Un Tak Raah-E-Mahw-E-Tawaf

Aisi Awaz Banu Aisi Nazar Ho Jaun

जो पहुंचती रहे उन तक राह-ए-महव-ए-तवाफ़

ऐसी आवाज़ बनूँ ऐसी नज़र हो जाऊं

 

Aarzu Ab To Muzaffar Jo Koi Hai To Ye Hai

Jitna Baaqi Hun Madine Me Basar Ho Jaun

आरज़ू अब तो मुज़फ्फर जो कोई है तो ये है

जितना बाक़ी हूँ मदीने में बसर हो जाऊँ

 

By sulta