Sat. Dec 4th, 2021

Manzil ki Dua

Table of Contents

मंज़िल दुआ क्या है ?

क़ुरान की वो 33 आयतें जिनका पढ़ना बुज़ुर्गों और वलियों से यहाँ तक कि शाह वलियुल्लाह मुहद्दिस दहलवी र.अ. से भी साबित है

क्यूँ पढ़ी जाती है ?

इसको जादू, जिन्नात और दुसरे खतरों से हिफ़ाज़त के लिए पढ़ा जाता है और ये एक ऐसा बेहतरीन अमल है जिसका कई बार तजरिबा किया गया है, ख़ुद शाह वलियुल्लाह मुहद्दिस दहलवी र.अ. फरमाते हैं कि “ये 33 आयतें हैं जो जादू के असर को ख़त्म करती हैं और शैतान, चोरों और दरिंदों से हिफ़ाज़त करती हैं”

मंज़िल को पढ़ने का तरीक़ा

अगर कोई ऊपर बताई गयी चीज़ों का मरीज़ हो तो उस पर दिन में एक बार पढ़ कर दम कर देना काफी है लेकिन अगर तकलीफ़ ज़्यादा हो तो सुबह और शाम पढ़ कर दम करें ( फूंकें )

मरीज़ पर दम करने के साथ साथ पानी की बोतल में भी दम कर लिया जाये और यही पानी मरीज़ को सारा दिन पिलाया जाये तो इंशाअल्लाह बहुत जल्द शिफ़ा मिलेगी

जिस दूकान या मकान में आसीब या जादू का असर हो वहां तेज़ आवाज़ में इस को पढ़ने और पानी पर दम करके हल्का हल्का छिड़कने से बहुत फायदा मिलता है

इस दुआ का असर कब होता है ?

पढने वाला जितनी अक़ीदत यक़ीन और तवज्जो के साथ पढ़ता है उतना ही ज़्यादा इसका असर होता है

नोट : हर आयत के नीचे सूरह और आयत का नंबर लिख दिया गया है

Manzil Dua In Hindi | मंज़िल दुआ हिंदी में पढ़ें

अ ऊजु बिल्लाहि मिनश शैतानिर रजीम

बिस्मिल्ला-हिर्रहमा-निर्रहीम

1. अल्हम्दुलिल्लहि रब्बिल आलमीन
2. अर रहमा निर रहीम
3. मालिकि यौमिद्दीन
4. इय्याक नअ’बुदु व इय्याका नस्तईन
5. इहदिनस् सिरातल मुस्तक़ीम
6. सिरातल लज़ीना अन अमता अलय हिम
7. गैरिल मग़दूबी अलय हिम् व लद दाल लीन (अमीन) *.

( सूरह फ़ातिहा आयत 1 से 7 )

1.अलिफ़ लाम मीम

2. ज़ालिकल किताबु ला रैबा फ़ीह हुदल लिल मुत्तक़ीन

3. अल्लज़ीना युअ’मिनूना बिल ग़ैबि व युक़ीमूनस सलाता वमिममा रज़क्नाहुम युन्फिक़ून

4. वल्लजीना युअ’मिनूना बिमा उनज़िला इलैका वमा उनज़िला मिन क़ब्लिक वबिल आखिरती हम यूक़िनून

6. उलाइका अला हुदम मिर रब्बिहिम व उलाइका हुमुल मुफ्लिहून

(सूरह बक़रह आयत 1 से 5 तक)

व इलाहुकुम इलाहुव वाहिद ला इलाहा इल्ला हुवर रह्रमानुर रहीम

(सूरह बक़रह आयत 163)

255. अल्लाहु ला इलाहा इल्लाहू अल हय्युल क़य्यूम ला तअ’खुज़ुहू सिनतुव वला नौम लहू मा फिस सामावाति वमा फ़िल अर्ज़ मन ज़ल लज़ी यश फ़ऊ इन्दहू इल्ला बि इजनिह यअलमु मा बैना अयदी हिम वमा खल्फहुम वला युहीतूना बिशय इम मिन इल्मिही इल्ला बिमा शा..अ वसिअ कुरसिय्यु हुस समावति वल अर्ज़ वला यऊ दुहू हिफ्ज़ुहुमावहुवल अलिय्युल अज़ीम

256. ला इकराहा फिद दीनि क़त तबैयनर रुश्दु मिनल गय्यी फमय यक्फुर बित तागूति व युअ’मिम बिल लाहि फ क़दिस तम्सका बिल उरवतिल वुसक़ा लन फ़िसामा लहा वल लाहु समीउन अलीम

257. अल्लाहु वलिय्युल लज़ीना आमनू युख रिजुहुम मिनज़ ज़ुलुमाती इलन नूर, वल लज़ीना कफ़रू औलिया उहुमुत तागूतु युख रिजूनहुम मिनन नूरि इलज़ ज़ुलुमात, उलाइका अस हाबुन नारि हम फ़ीहा खालिदून

(सूरह बक़रह आयत 255 से 257 तक)

284. लिल लाहि मा फिस समावाति वमा फ़िल अर्दि, व इन तुब्दू माफ़ी अन्फुसिकुम अव तुख्फूहु युहासिब्कुम बिहिल लाह, फ़यग्फिरू लिमय यशाऊ व युअज़्ज़िबु मय यशाअ, वल लाहु अला कुल्लि शय इन क़दीर

285. आमनर रसूलु बिमा उनज़िला इलैहि मिर रब्बिही वल मुअ’मिनून, कुल्लुन आमना बिल लाहि व मला इकातिही व कुतुबिही व रुसुलिह ला नुफर्रिकु बैना अहदिम मिर रुसुलिह, व क़ालू समिअ’ना व अतअ’ना गुफरानका रब्बना व इलैकल मसीर

286. ला युकल्लिफुल लाहु नफ्सन इल्ला वुसअहा लहा मा कसाबत व अलैहा मक तसबत, रब्बना ला तुआखिज्ना इन नसीना अव अख्तअ’ना, रब्बना वला तहमिल अलैना इसरन कमा हमल्तहू अलल लज़ीना मिन क़ब्लिना, रब्बना वला तुहम्मिलना माला ताक़ता लना बिह, व अफु अन्ना वगफिर लना वरहमना, अंता मौलाना, फंसुरना अलल कौमिल कफिरीन

(सूरह बक़रह 284 से 286 तक)

18. शहिदल लाहु अन्नहू ला इलाहा इल्ला हुवा वल मलाइकतु व उलुल इल्मि क़ाइमम बिल किस्त, ला इलाहा इल्ला हुवल अज़ीज़ुल हकीम

(सूरह आले इमरान आयत 18)

क़ुलिल लाहुम्मा मालिकल मुल्कि तुअ’तिल मुलका मन तशाऊ व तन्ज़िउल मुलका मिम मन तशाऊ व तुइज़्ज़ु मन तशाऊ व तुज़िल्लू मन तशाऊ बियदिकल खैर इन्नका अला कुल्लि शैइन क़दीर

तूलिजुल लैला फिन नहारि व तूलिजुन नहारा फ़िल लैल, व तुखरिजुल हय्या मिनल माय्यिति व तुखरिजुल मय्यिता मिनल ह्यय, व तरज़ुक़ु मन तशाऊ बिगैरि हिसाब

(सूरह आले इमरान आयत 26 से 27 तक)

इन्ना रब्बकुमुल लाहुल लज़ी खलाक़स समावाति वल अर्दा फ़ी सिततति अय्यामिन सुम्मस तवा अलल अर्श, युगशिल लैलन नहार, यत्लुबुहू हसीसव वश शमसा वल क़मरा वन नुजूमा मुसख खरातिम बिअम रिह अला लहुल खल्कु वल अमरू तबारकल लाहु रब्बुल आलमीन

उदऊ रब्बकुम तदर रुअव व खुफयह, इन्नल लाहा ला युहिब्बुल मुअ’तदीन

वला तुफ्सिदू फिर अर्दि बअ’दा इस्लाहिहा वदऊहु खौफ़व व तमआ इन्ना रह्मतल लाहि क़रीबुम मिनल मुह्सिनीन

(सूरह आराफ़ आयत 54 से 56 तक)

क़ुलिदउल लाहा अविदउर रहमान, अय्यम मा तदऊ फ़लहुल असमा उल हुस्ना, वला तज्हर बिसलातिका वला तुखाफ़ित बिहा वब्तगि बैना ज़ालिका सबीला

वक़ुलिल हम्दु लिल लाहिल लज़ी लम यत तखिज़ वलदव वलम यकुल लहू शरीकुन फ़िल मुल्कि वलम यकुल लहू वलिय्युम मिनज़ जुल्लि वकबबिरहु तक्बीरा

(सूरह बनी इसराइल आयत 110 से 111 तक)

अफ़ा हसिब्तुम अन्नमा खलक्नाकुम अबासव व अन्नकुम इलैना ला तुरजऊन, फ तआलल लाहुल मलिकुल हक्कू ला इलाहा इल्ला हुवा रब्बुल अरशिल करीम, वमै यद्ऊ मअल लाहि इलाहन आखरा ला बुरहाना लहू बिह, फ इन्नमा हिसाबुहू इन्दा रब्बिह, इन्नहू ला युफ्लिहुल काफ़िरून, वक़ुर रब्बिग फिर वरहम व अंता खैरुर राहिमीन

(सूरह मुअ’मिनून आयत 115 से 118 तक)

1. वस साफ़फ़ाति सफ्फ़ा

2. फ़ज ज़ाजिराति ज़जरा

3. फत तालियाति ज़िकरा

4. इन्ना इलाहकुम लवाहिद

5. रब्बुस समावाति वल अरदि वमा बैनहुमा व रब्बुल मशारिक़

6. इन्ना ज़य्यन नस समाअद दुनिया बिजीनातिनिल कवाकिब

7. व हिफ्ज़म मिन कुल्लि शैतानिम मारिद

8. ला यस सम मऊना इलल म लइल अअ’ला व युक्ज़फूना मिन कुल्लि जानिब

9. दुहूरौ व लहुम अज़ाबुव वासिब

10. इल्ला मन खतिफल खत्फता फअत बअहू शिहाबुन साक़िब

11. फस्तफ़ तिहिम अहुम अशद्दु खलक़न अम्मन खल्क्ना इन्ना खलक्नाहुम मिन तीनिल लाज़िब

(सूरह साफ़फ़ात आयत 1 से 11 तक)

33. या मअ’शरल जिन्नि वल इन्सि इनिस त तअ’तुम अन तन्फुजु मिन अक़ तारिस समावाति वल अरदि फनफुजू ला तन्फुजूना इल्ला बिसुल तान

34. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

35. युरसलु अलैकुमा शुवाज़ुम मिन नारिव व नुहासून फला तन तसिरान

34. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

37. फ़इजन शक़ क़तिस समाउ फकानत वर दतन कद दिहान

34. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

39. फयौम इज़िल ला युसअलु अन ज़मबिही इन्सुव वला जान

34. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

(सूरह रहमान आयत 33 से 40 तक)

लौ अनज़लना हाज़ल क़ुरआना अला जबलिल ल रऐतहू खाशिअम मुतसद दिअम मिन खश यतिल लाह, व तिल्कल अम्सालु नदरिबुहा लिन नासि लअल्लहुम य तफक्करून

हुवल लाहुल लज़ी ला इलाहा इल्ला हू, आलिमुल ग़ैबि वश शहादती हुवर रहमानुर रहीम

हुवल लाहुल लज़ी ला इलाहा इल्ला हू, अल मलिकुल क़ुद्दूसुस सलामुल मुअ’मिनुल मुहैमिनुल अज़ीज़ुल जब्बारुल मुताकब्बिर, सुब हानल लाहि अम्मा युशरिकून

हुवल लाहुल ख़ालिक़ुल बारिउल मुसव्विरू लहुल अस्माउल हुस्ना युसब्बिहु लहू माफ़िस समावाति वल अर्द वहुवल अज़ीज़ुल हकीम

(सूरह हशर आयत 21 से 24 तक)

कुल ऊहिया इलैया अन नहुस तमआ नफरुम मिनल जिन्नि फ़क़ालू इन्ना समि’अना क़ुर आनन् अजबा

यहदी इलर रुश्दि फ़ आमन्ना बिह, वलन नुशरिका बिरब बिना अहदा

व अन्नहु तआला जद्दु रब्बिना मत तखज़ा साहिबतौ वला वलदा

व अन्नहु काना यक़ूलु सफीहुना अलल लाहि शताता

(सूरह जिन आयत 1 से 4 तक)

1.क़ुल या अय्युहल काफिरून

2.ला अअ’बुदु मा तअ’बुदून

3.वला अन्तुम आबिदूना मा अअ’बुद

4.वला अना आबिदुम मा अबत्तुम

5.वला अन्तुम आबिदूना मा अअ’बुद

6.लकुम दीनुकुम वलिय दीन

(सूरह काफ़िरून आयत 1 से 6 तक)

1.कुल हुवल लाहु अहद

2.अल्लाहुस समद

3.लम यलिद वलम यूलद

4.वलम यकूल लहू कुफुवन अहद

(सूरह इख्लास आयत 1 से 4 तक)

1.कुल अऊजु बिरब्बिल फलक़

2.मिन शर रिमा ख़लक़

3.वमिन शर रिग़ासिकिन इज़ा वक़ब

4.वमिन शर रिन नफ़फ़ासाति फ़िल उक़द

5.वमिन शर रिहासिदिन इज़ा हसद

(सूरह फ़लक आयत 1 से 5 तक)

1.कुल अऊजु बिरब्बिन नास

2.मलिकिन नास

3.इलाहिन नास

4.मिन शर रिल वसवा सिल ख़न्नास

5.अल्लज़ी युवस विसु फी सुदूरिन नास

6.मिनल जिन्नति वन नास

(सूरह नास आयत 1 से 6 तक)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *