Main Tasvvur Ki Waadi Me Jab Gum Hua naat lyrics

Naat Khwan: Kaleem Waris Khan
Written By: Kaleem Waris Khan

Mustafa ×6

Mustafa×4

मुस्तफ़ा ×6
मुस्तफ़ा ×4

Main Tasvvur Ki Waadi Me Jab Gum Hua
Haq Se Maine Khayalon Me Ki Iltija

Koun Hai Tera Mahboob Rabbul-Ula
Mujhse Mere Khuda Ne Kaha Mustafa

Mustafa×4

मैं तसव्वुर की वादी में जब गुम हुआ
हक़ से मैंने ख्यालों में की इल्तजा
कौन है तेरा महबूब रब्बुल-उला
मुझसे मेरे खुदा ने कहा मुस्तफ़ा

मुस्तफ़ा ×4

 

Poonchha Aadam Ke Betey Se Ibne Shafi
Kya Kisi Ko Hai Walid Se Bhi Bartari ?

Bole Walid Ne Jannat Ke Har Patte Par
Naam Jinka Padha Saiyadul Ambiya.

Mustafa×4

 

पूछा आदम के बेटे से इब्ने शफी
क्या किसी को है वालिद से भी बरतरी
बोले वालिद ने जन्नत के हर पत्ते पर
नाम जिनका पड़ा सैयद-उल-अंबिया

मुस्तफ़ा ×4

 

Maine Poochha Ke Ay Walid-e-Ambiya
Aap Se Badh Ke Koi Karibi Hai Kya ?

Yun Kaha Mujhse Aqrab Hain Wo Hashimi
Rab Ne Quraa.n Me Jinko Hai Taha Kaha.

Mustafa×4

मैंने पूछा कि ऐ वालिदे अंम्बिया
आप से बढ़कर कोई करीबी है क्या
यूं कहा मुझसे अक़रब है वो हाशमी
रब ने कुरआन में जिनको है ताहा कहा

मुस्तफ़ा ×4

 

Poochha Moosa Se Maine Ke Rab Ke Kaleem
Ma-Siba Aapke Kya Koi Hai Kaleem ?

Bole Mujhse To Baatein Hui Toor Par
Arsh Par Rab Se Batein Karen Mustafa.

Mustafa×4

पूछा मूसा से मैंने के रब के कलीम
मां सिवा आपके क्या कोई है कलीम
बोले मुझसे तो बातें हुई तूर पर
अर्श पर रब से बातें करें मुस्तफ़ा

मुस्तफ़ा ×4

 

Poochha Eesa Se Maine Ke Pyare Nabi
Aap Jaisa Bhi Koi Maseeha Nahin ?

Bole Main Qoum Ka Bas Maseeha Bana
Aalmon Ke Maseeha Bane Mujtaba.

Mustafa×4

पूछा ईसा से मैंने के प्यारे नबी
आप जैसा भी कोई मसीहा नहीं
बोले मैं क़ौम का बस मसीहा बना
आलमों के मसीहा बने मुज़्तबा

मुस्तफ़ा ×4

 

Poochha Jibraeel Se Maine Ay Jibraeel
Lail Meraj Me Tak The Kahan?

Bole Sidra Pe Main Jaake Bas Ruk Gaya
Aur Gaye Arsh Tak Sarwar-e-Ambiya.

Mustafa×4

पूछा जिब्रील से मैंने ऐ जिब्राईल
लैल मेराज में तक थे कहां
बोले सिदरा पे मैं जा के बस रुक गया
और गए अर्श तक सरवर-ए-अंबिया

मुस्तफ़ा ×4

 

Poochha Ashaab Se Behtari Saathiyon
Azmaton Ka Pata Apni Hamko Bhi Do?

Yun Kaha Qoul-e-Aaqa Pe Hamne Kaleem
Jaan Apni Lagi Maal Bhi De Diya.

Mustafa×4

पूछा असहाब से बेहतरी साथियों
अज़मतों का पता अपनी हमको भी दो
यूं कहा क़ौल-ए-आक़ा पे हमने कलीम
जान अपनी लगी माल भी दे दिया

मुस्तफ़ा ×4

By sulta