Main Gada e Dar Hoon Tera Lyrics

 

 

Main Gada e Dar Hoon Tera Lyrics

Main Gada e Dar Hoon Tera Meri Sharm Laaj Rakh Le
Tuhi Ek Mera Aaqa Meri Sharm Laaj Rakh Le

 

Tera Kah Rahi Hai Duniya Meri Sharm Laaj Rakh Le
Jo Bana Liya Hai Apna Meri Sharm Laaj Rakh Le

 

Main Kisi Se Bhi Jahan Mein Karuñ Apna Gham Bayañ Kyun
Mujhe Aasra Hai Tera Meri Sharm Laaj Rakh Le

 

Huñ Gunahgar Aisa Koi Aib Hi Na Chhoda
Tere Haath Mera Parda Meri Sharm Laaj Rakh Le

 

Tu Naqab e Rukh Utha De Meri Tishnagi Bujha De
Main Hun Aaqa Tera Shaida Meri Sharm Laaj Rakh Le

 

Mera Naam To Hai Sadiq Tu Bana De Mujhko Sadiq
Sag e Aastañ Hun Tera Meri Sharm Laaj Rakh Le

 

 

मैं गदा ए दर हूं तेरा मेरी शर्म लाज रख ले

 

 

मैं गदा ए दर हूं तेरा मेरी शर्म लाज रख ले,
तू ही एक मेरा आक़ा मेरी शर्म लाज रख ले।

 

तेरा कह रही है दुनिया मेरी शर्म लाज रख ले,
जो बना लिया है अपना मेरी शर्म लाज रख ले।

 

मैं किसी से भी जहां में करूं अपना ग़म बयां क्यों,
मुझे आसरा है तेरा मेरी शर्म लाज रख ले।

 

हूं गुनाहगार ऐसा कोई ऐब ही न छोड़ा,
तेरे हाथ मेरा पर्दा मेरी शर्म लाज रख ले।

 

तू नक़ाब ए रुख़ उठा दे मेरी तिशनगी बुझा दे,
मैं हूं आक़ा तेरा शैदा मेरी शर्म लाज रख ले।

 

मेरा नाम तो है सादिक़’, तू बना दे मुझको ‘सादिक़’
सग ए आस्तां हूं तेरा मेरी शर्म लाज रख ले।

By sulta