Main Chup Khada Hua Hun Darwar e Mustafa Me lyrics

 

Main Chup Khada Hua Hun Darwar e Mustafa Me lyrics

मैं चुप खड़ा हुआ हूं दरबार ए मुस्तफा में

Naat Khwan: Zulfiqar Ali Hussani

मैं चुप खड़ा हुआ हूं दरबार ए मुस्तफा में
आंखों से बोलता हूं दरबार ए मुस्तफा में
Main Chup Khada Hua Hun Darwar e Mustafa Me
Aankhon Se Bolta Hun Darwar e Mustafa Me

 

मेरा वुजूद जैसे गुम हो के रह गया है
खुद से बिछड़ गया हूं दरबार ए मुस्तफा में
Mera wajood Jaise Gum Ho Ke Rah Gaya Hai
Khud se Bichhad Gaya Hun Darwar e Mustafa Me

 

आंसू नदामतों के हैं चश्मे तर से जारी
छुप छुप के रो रहा हूं दरबार मुस्कुराने
आंखों से बोलता हूं दरबार ए मुस्तफा में
Aansu Nadamaton Ke Hain Chashme Tar Se Jaari
Chhup Chhup Ke Ro Raha Hun Darwar e Mustafa Me

 

क्या अब भी मेरे रब का मुझ पर करम ना होगा
अब तो मैं आ गया हूं दरबार ए मुस्तफा में
आंखों से बोलता हूं दरबार ए मुस्तफा में
Kya Ab Bhi Mere Rab Ka Mujh Par Karam Na Hoga
Ab To Main Aa Gaya Hun Darwar e Mustafa Me

 

किरने निकल रहीं हैं मेरे वुजूद से भी
खुर्शीद बन गया हूं दरबार ए मुस्तफा में
आंखों से बोलता हूं दरबार ए मुस्तफा में
Kirne Nikal Rahin Hain Mere Wujood Se Bhi
Khursheed Ban Gaya Hun Darwar e Mustafa Me
Aankhon Se Bolta Hun Darwar e Mustafa Me

 

आंसू जो बह रहे हैं सब हाल कह रहे हैं
लब कौन खोलता है दरबार ए मुस्तफा में
आंखों से बोलता हूं दरबार ए मुस्तफा में
Aansu Jo Bah Rahe Hain Sab Haal Kah Rahe Hain
Lab Koun Kholta Hai Darwar e Mustafa Me
Aankhon Se Bolta Hun Darwar e Mustafa Me

 

मरने के बाद मेरे पूछे कोई तो कहना
वो नात पढ़ रहा है दरबार ए मुस्तफा में
आंखों से बोलता हूं दरबार ए मुस्तफा में
Marne Ke Baad Mere Poochhe Koi To Kahna
Wo Naat Padh Raha Hai Darwar e Mustafa Me
Aankhon Se Bolta Hun Darwar e Mustafa Me

 

रहमत का दर खुला है दरबार ए मुस्तफा में
बिन मांगे मिल रहा है दरबार ए मुस्तफा में
आंखों से बोलता हूं दरबार ए मुस्तफा में
Rahmat Ka Dar Khula Hai Darwar e Mustafa Me
Bin Mange Mil Raha Hai Darwar e Mustafa Me
Aankhon Se Bolta Hun Darwar e Mustafa Me

 

By sulta