Maidan Me Aa Gaye Ho To Phir Khul Ke Baat Ho Manqabat Moula Ali Lyrics

 

 

Maidan Me Aa Gaye Ho To Phir Khul Ke Baat Ho Manqabat Moula Ali

Naat Khwan: Hafiz Tahir Qadri

 

For English Lyrics Click Here

 

शाहे मर्दां शेरे यज़दां कुवत ए परवरदिगार

मैदां में आ गए हो तो फिर खुल के बात हो
मैं तो अली के साथ हूं तुम किसके साथ

हैदर, हैदर,

हैदर मौला अली अली
अली अली मौला

(पंज नारा पंजतनी, सवा लख्ख नारा हैदरी)

हैदर, हैदर,

हैदर मौला अली अली
अली अली मौला

ला फ़ता इल्ला अली
ला सैफ़ इल्ला ज़ुल्फ़िक़ार

नामे अली जो आ गया मेरी ज़ुबान पर
जिब्रील मुस्कुराने लगे आसमान पर

मुन्किर की क्या मजाल जो मेरे घर में आ सके
लौहे अली जो लिख्खा है मेरे मकान पर

हैदर, हैदर,

हैदर मौला अली अली
अली अली मौला

या मौला हैदर

मेरी जान अली, ईमान अली, पहचान अली,
हां मेरी शान अली

बेशक अली नबी के घराने की लाज हैं
मुश्किल कुशा हैं फ़ातिमा के सर का ताज हैं

वो आबरू-ए-दीन-ए-रिसालत मआव हैं
अल्लाह के ह़बीब का वो इन्त़िख़ाब है

प्यारे नबी ने चुन के इन्हें कायनात में
बेटी का हाथ दे दिया हैदर के हाथ में

हैदर, हैदर,

हैदर मौला अली अली
अली अली मौला

ला फ़ता इल्ला अली
ला सैफ़ इल्ला ज़ुल्फ़िक़ार

अली इमाम-ए-मनस्तो मनम ग़ुलामे अली
हज़ारे जाने गिरामी फ़िदा मनामे अली

हैदर, हैदर,

हैदर मौला अली अली
अली अली मौला

उनकी कोई मिसाल न कोई जवाब है
मौला-ए-कायनात अली का ख़िताब है

इस वास्ते लकब तेरा मौला अली हुआ
जिस पर निगाह डाल दी वोह भी बली हुआ

हैदर, हैदर,

हैदर मौला अली अली
अली अली मौला

अली का इश्क़ मुक़द्दर सवार देता है
अली का बुग़्ज़ तो चेहरा बिगाड़ देता है

अली के ज़िक्र को अदना ना समझ तू ऐ मुन्किर
अली इक हाथ से ख़ैबर उखाड़ देता है

हैदर, हैदर,

हैदर मौला अली अली
अली अली मौला

ला फ़ता इल्ला अली
ला सैफ़ इल्ला ज़ुल्फ़िक़ार

कैसा नसीब देखिये मौला अली का है
आंखें खुलीं तो सामने चेहरा नबी का है

इक नाम चार यारों में शेरे खुदा का है
इक नाम पंजतन में भी मुश्किल कुशा का है

हैदर, हैदर,

हैदर मौला अली अली
अली अली मौला

मेरी जान अली, ईमान अली, पहचान अली,
हां मेरी शान अली

By sulta