Kya poochhte ho rutba e Gulzar e madina Lyrics

 

क्या पूछते हो रुतबा ए गुलज़ार ए मदीना
चूमे जिसे जिब्रील वो है खार ए मदीना

 

जिब्रील ए अमीं आंख बिछाते थे हिरा में
उक़बे में कहां तूर कहां गार ए मदीना

 

कौसर कभी पुल पर कभी मीज़ान ए अमल पर
उम्मत के लिए रोयेंगे सरकार ए मदीना

 

दुनियावी मरीज़ों की तरहं इनको ना समझो
मुर्दों को जिला देते हैं बीमारी ए मदीना

 

तारी है अजब कैफ़ मलायक पे भी फ़ैज़ी
पढ़ते ही रहो मस्ती में अश्आर ए मदीना

 

Naat Khwan: Habibullah Faizi

Kya poochhte ho rutba e Gulzar e madina
Choome jise jibreel wo hai khar e madina

 

Jibreel e ami aankh bichhate the Hira me
Uqbe me Kahan toor Kahan gaar e madina

 

Kausar kabhi pul par kabhi mizaan e madina
Ummat ke liye royenge sarkar e madina

 

Duniyawi meerzon ki tarah inko na samjho
Murdon ko jila Dete hain beemar e madina

 

Taari hai ajab Kaif malayak pe bhi Faizi
Padhte hi raho Masti me ash’aar e madina

By sulta