Khuda Ki Baat Wo Apni Zabani Karne Aaye The Lyrics

 

 

ख़ुदा की बात वो अपनी ज़बानी करने आए थे

 

Khuda Ki Baat Wo Apni Zabani Karne Aaye The

Shahe Deen Apne Rab Ki Tarjumani Karne Aaye The

 

Sharaf Haasil Hua Unko Khuda Ki Mezbani Ka

Zami Ka Rang Bhi Wo Aasmani Karne Aaye The

 

Unhen Roohon Ko, Zahno Ko, Dilon Ko Fatah Karna Tha

Wo Patthar Jaise Insano Ko Paani Karne Aaye The

 

Na Aaye Hamko Apni Zaat Se Bhi Dosti Karni

Wo Apne Dushmano Par Mehrbani Karne Aaye The

 

Fana Ke Waqt Bhi Hamko Hayaat-E-Nau Ka Muzda Hai

Hamari Aaqibat Kitni Suhani Krne Aaye The

 

Na Thi Mahdood Apne Ahad Tak Paighambari Unki

Azal Se Ta-Abad Wo Hukmrani Karne Aaye The

 

Tamanna-E-Shahadat Bhi Racha Di Khoon -E-Umaat Me

Azal Ko Bhi Sharik-E-Zindgani Karne Aaye The

 

Mujassam Ik Namuna Banke Akhlaq-O-Mohabbat Ka

Muzaffar Ko Fana-Fil Naat Khwani Karne Aaye The

 

Naat Khwan: Muhammad Ali Faizi

Shayar: Muzaffar Warsi

Khuda Ki Baat Wo Apni Zabani Lyrics Hindi
ख़ुदा की बात वो अपनी ज़बानी करने आए थे

शहे दीं अपने रब की तर्जुमानी करने आए थे

 

शरफ़ हासिल हुआ उनको ख़ुदा की मेज़बानी का

ज़मीं का रंग भी वो आसमानी करने आए थे

 

उन्हें रूहों को, ज़हनों को, दिलों को फत़ह करना था

वो पत्थर जैसे इंसानों को पानी करने आए थे

 

ना आए हमको अपनी ज़ात से भी दोस्ती करना

वो अपने दुश्मनों पर मेहरबानी करने आए थे

 

फ़ना के वक़्त भी हमको ह़यात-ए-नौ का मुज़दा है

हमारी आक़िबत कितनी सुहानी करने आए थे

 

ना थी महदूद अपने अहद तक पैग़म्बरी उनकी

अज़ल से ता-अबद तक हुकुमरानी करने आए थे

 

तमन्ना-ए-शहादत भी रचा दी खूने उम्मत में

अज़ल को भी शरीक-ए-ज़िन्दगानी करने आए थे

 

मुजस्सम इक नमूना बनके अखलाक़-ओ-मोहब्बत का

मुज़फ्फ़र को फ़ना-फ़िल नातख्वानी करने आए थे

By sulta