Jo naqsh gham-e-ahmad ne rukh pe ubhare hain lyrics

 

 

Jo naqsh gham-e-ahmad ne rukh pe ubhare hain
Ham logon ki bakhshish ke beshaq wo sahare hain

 

जो नक़्श ग़म ए अह़मद ने रुख़ पे उभारे हैं
हम लोगों की बख्शिश के बेशक़ वो सहारे हैं

 

Kounain ke pyare hain zahra ke dulare hain
Daman me muhammad ke anmol sitare hain

 

कौनैन के प्यारे हैं ज़हरा के दुलारे हैं
दामन में मुह़म्मद के अनमोल सितारे हैं

 

Mahshar me hamen aaqa kamli me chhupa lijo
Jaise bhi sahi lekin ham log tumhare hain

 

महशर में हमें आक़ा कमली में छुपा लीजो
जैसे भी सही लेकिन हम लोग तुम्हारे हैं

 

Khaliq bhi sana khwan hai sarkar e do aalam ka
Roushan ye sanad jiski quraan ke paare hain

 

ख़ालिक़ भी सना-ख्वां है सरकार ए दो आलम का
रौशन ये सनद जिसकी क़ुरआन के पारे हैं

By sulta